Top

भतीजी से रेप करने में रहा नाकाम तो चाचा ने लगा दी अाग, हालत गंभीर

Admin

AdminBy Admin

Published on 26 April 2016 2:10 PM GMT

भतीजी से रेप करने में रहा नाकाम तो चाचा ने लगा दी अाग, हालत गंभीर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

आगरा: थाना खेरागढ़ के नगला कमाल में मंगलवार को एक दिल दहलाने वाला मामला सामने आया। घटना में एक मुंहबोले चाचा ने शारीरिक संबंध बनाने से इंकार करने पर भतीजी को आग के हवाले कर दिया।

डॉक्टर के अनुसार विक्टिम 95 प्रतिशत जल चुकी है। फ़िलहाल उसका इलाज एसएन मेडिकल कॉलेज में चल रहा है। वारदात को अंजाम देने के बाद से आरोपी फरार है।

चाचा की हुई नीयत खराब

घटना थाना खेरागढ़ के नगला कमाल की है। यहां रहने वाले सुरेन्द्र सिंह की 16 वर्षीय बेटी सोनल ( परिवर्तित नाम ) पर पास में ही रहने वाले नरेंद्र (32 वर्ष) की बुरी नजर थी। सोनल और नरेंद्र में चाचा-भतीजी का रिश्ता है। मंगलवार को नरेंद्र ने बहाने से सोनल को अपने घर बुलाया और दरवाजा बंद कर लिया और छेड़छाड करने लगा।

चिल्लाने की आवाज पर पहुंचे घर वाले

सोनल की छोटी बहन वहीं थी उसने जब सोनल के चिल्लाने की आवाज सुनी तो भाई महादेव को बुलाया। शोर सुनकर सोनल के पिता भी मौके पर पहुंच गए। सब ने मिलकर दरवाजा खुलवाया। कमरे में बदहवास हालत में मिली। सोनल ने बताया कि नरेंद्र उस पर शारीरिक संबंध बनाने का दबाव दाल रहा था। इस बात से खफा सुरेंद्र और उसके बेटों ने नरेंद्र की पिटाई कर दी।

पंचायत ने शांत कराया था मामला

इस मामले पर गांव में पंचायत बुलाई गई। पंचायत में आरोपी ने सबके सामने विक्टिम से माफ़ी मांगी। लोक-लाज के डर से पीड़िता के परिवार ने भी बात को आगे बढ़ाना उचित नहीं समझा। मामले को पंचायत के कहे अनुसार खत्म कर दिया।

मिटटी का तेल डालकर पीड़िता को जलाया

मंगलवार सुबह तड़के जब सोनल के माता-पिता घर से किसी काम से बाहर गए थे तो नरेंद्र उनके घर में मिटटी का तेल घुसा। कमरे में सोनल और उसके भाई-बहन सो रहे थे। नरेंद्र ने सोनल के ऊपर मिटटी का तेल डालकर आग लगा दी।

विक्टिम के पिता भी झुलसे

सोनल के चीखने पर घर वाले उसे बचाने दौरे। सब ने मिलकर आग बुझाने की हर संभव कोशिश की। इस दौरान सोनल काफी हद तक जल चुकी थी। आग बुझाने के दौरान सोनल के पिता का हाथ भी झुलस गया।

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ने भर्ती से किया इंकार

बुरी तरह से जली हालत में विक्टिम को लेकर जब परिजन खेरागढ़ के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचे तो पुलिस केस होने का हवाला देकर डॉक्टरों ने भर्ती करने से मना कर दिया। पीड़िता के पिता ने थाना खेरागढ़ में तहरीर दी। विक्टिम का इलाज आगरा के एसएन हॉस्पिटल में भर्ती कराया है। जहां पीड़िता की हालत गंभीर बनी हुई है।

Admin

Admin

Next Story