Top

कौशांबी: मुकाबला है दिलचस्प, पंचायत चुनाव के मैदान में चाचा भतीजे आमने-सामने

कौशांबी जिले के सरसवा ब्लॉक के पुनवार गांव के रहने वाले एक परिवार के पंचायत चुनाव में चाचा-भतीजे ने नामांकन किया।

Ansh Mishra

Ansh MishraReporter Ansh Mishra

Published on 20 April 2021 9:27 AM GMT

कौशांबी: मुकाबला है दिलचस्प, पंचायत चुनाव के मैदान में चाचा भतीजे आमने-सामने
X

पंचायत चुनाव (सिम्बॉलिक फोटो)

https://newstrack.com/uttar-pradesh/son-brutally-murder-his-own-father-in-jalaun--259809

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कौशांबी: उत्तर प्रदेश के कौशांबी जिले के सरसवा ब्लॉक के पुनवार गांव के रहने वाले एक परिवार के पंचायत चुनाव में चाचा-भतीजे ने नामांकन किया। गांव के प्रचार में चाचा भतीजे लगातार एक दुसरे को टक्कर दे रहे हैं। परिश्रम पंचायत चुनाव का नतीजा आते ही देखना यह होता है कि चाचा के सर पर रहेगा पंचायत चुनाव का ताज या फिर भतीजे के सर पर।

इस पर ग्रामीणों का कहना है कि एक ही परिवार के 2 सदस्य पंचायत चुनाव के मैदान में है। किसको वोट दिया जाए, किसको ना दिया जाए, इसी बात को लेकर काफी चर्चा का विषय बना हुआ है। आपको बताते चलें कि चाचा भतीजे की कहानी कुछ पंचायत चुनाव को लेकर है।

भतीजे बबलू चौरसिया चुनावी मैदान में कूदे हैं। खैर जो भी हो पंचायत चुनाव को लेकर बबलू का हर घर पर दस्तक की शुरूआत हो गई है। बबलू अपने विचार व योजनाएं मतदाताओं को समझाने लगे हैं। बहरहाल दिलचस्प बात ये है कि मुकाबले में मतदाताओं के चेहरे पर मुस्कान है।

इतना ही नहीं चाचा की गांव की विकास की चर्चा जोरों पर हैं। लोगों का दिल जीतने के लिए चाचा ने भी पंचायत चुनाव में काफी वादे किए हैं। वही भतीजा भी चाचा से कम नहीं लगातार विकास की गंगा बहाने के वादे कर रहा है। माताओं बहनों को आशीर्वाद ले रहा है। कहते है कि सियासत में कोई किसी का सगा नहीं होता। यहां बस कुर्सी मिलनी चाहिए। कुर्सी ने इस बार चाचा और भतीजे को आमने सामने कर दिया है।

Roshni Khan

Roshni Khan

Next Story