×

UP: स्टेट हेल्थ पॉलिसी के तहत एंबुलेंस में होगी ECG जांच की सुविधा

जिले में योगी सरकार काबिज होने के बाद से लगातार हेल्थ मिनिस्टर सि़द्धार्थ नाथ सिंह ने स्वास्थ्य सुविधाओं को बढ़ाने का दावा करते आए हैं। इसको लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी अधिकांश स्थानों पर बयानबाजी किया है। कुछ ऐसा ही संदेशा 2 फरवरी को यूपी के आम लोगों को मिला है।

priyankajoshi

priyankajoshiBy priyankajoshi

Published on 2 Feb 2018 1:45 PM GMT

UP: स्टेट हेल्थ पॉलिसी के तहत एंबुलेंस में होगी ECG जांच की सुविधा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: जिले में योगी सरकार काबिज होने के बाद से लगातार हेल्थ मिनिस्टर सिद्धार्थ नाथ सिंह ने स्वास्थ्य सुविधाओं को बढ़ाने का दावा करते आए हैं। इसको लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी अधिकांश स्थानों पर बयानबाजी किया है। कुछ ऐसा ही संदेशा 2 फरवरी को यूपी के आम लोगों को मिला है।

प्रदेश सरकार स्टेट हेल्थ पॉलिसी की तहत एंबुलेंस सेवा 108 को अपडेट करने जा रहीं है। जहां एंबुलेंस में ही मरीज की ईसीजी समेत कई प्राथमिक जांचें तत्काल हो जाएंगी। ताकि, गंभीर मरीज अस्पताल के ओटी तक समय से पहुंच जाए और उसकी जान बच जाए। यह बात शुक्रवार (2 जनवरी) को स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने बलरामपुर अस्पताल में बोला।

तीन बेड पर होंगी एक स्टाफ नर्स की ड्यूटी

बलरामपुर अस्पताल के 149वां स्थापना दिवस के अवसर पर शुक्रवार को कैबिनेट स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह और स्वतंत्र प्रभार मंत्री महेंद्र सिंह ने अस्पताल के वेबसाइट, टेली मेडीसिन और डिजिटल एक्स-रे का शुभारंभ किया। इस मौके पर स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर एमबीबीएस डॉक्टरों की जरूरत नहीं है। वहां स्टाफ नर्स और आयुष डॉक्टरों की नियुक्ति स्टेट हेल्थ पॉलिसी के तहत किया जाएगा। यह पॉलिसी स्वास्थ्य विभाग में क्रांति लाएगा। पॉलिसी के तहत सरकारी अस्पतालों में तीन बेड पर एक स्टाफ नर्स की ड्यूटी लगाई जाएगी। इसके साथ ही प्रदेश में एंबुलेंस सेवाओं को अपडेट किया जाएगा। इसमें इसीजी समेत कई प्राथमिक जांचों की सुविधा उपलब्ध होगी। वहीं कार्यक्रम में मंत्री महेंद्र सिंह ने कहा कि लखनऊ के इतिहास में बलरामपुर अस्पताल का विशेष योगदान है।

एक साल में बदलेगी बलरामपुर की सूरत

निदेशक डॉक्टर राजीव लोचन ने अस्पताल में 16 बेडों का आईसीयू, हाई डेंटल यूनिट, हाई डर्मटोलॉली चौंबर, टीएमटी मशीन, थ्री डी इको और चार मंजिला वॉर्ड बनाने की मांग स्वास्थ्य मंत्री से की। इस पर स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि यह सब मांगे स्टेट हेल्थ पॉलिसी के तहत आती है। इन मांगों पर सरकार पहले ही विचार कर चुका है। इस लिए एक साल के भीतर बलरामपुर अस्पताल में सभी सुविधाए उपलब्ध होंगी।

टेली मेडीसिन सुविधा से लैंस होंगे जिला अस्पताल

डॉ सिद्धार्थ ने कहा कि जिला अस्पतालों की हालात को सुधारा जाएगा। इसलिए जिला अस्पतालों में पॉलिसी के तहत कैंसर, कार्डि केयर, ओरल केयर, टीबी केयर यूनिट की सुविधा दी जाएंगी। इसके साथ इन अस्पतालों को टेलिमेडीसिन सुविधा से भी लैंस किया जाएगा। जहां देश के जाने-माने मेदांता हॉस्पिटल के डॉक्टरों के सहयोग से मरीजों का इलाज किया जाएगा।

हर तीन मिनट में एक व्यक्ति की सड़क दुर्घटना में होती है मौत

अस्पताल में डॉक्टर एससी राय मेमोरिया ओरिएशन की शुरुआत की गई। इसमें पीजीआई के प्रोफेसर डॉ निर्मल गुप्ता ने 'द गोल्डन आवर्स' पर कहा कि सरकारी आकड़ों के मुताबिक, प्रत्येक तीन मिनट में एक व्यक्ति की सड़क हादसे में मौत होती है। अगर उस मरीज के गोल्डन टाइम में उसे अस्पताल पहुंचाया गया होता तो, उसकी जान बच सकती है। इसलिए 'द गोल्डन आवर्स' के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए जिला अस्पताल में शनिवार को एक लेक्चर का आयोजन किया जाएगा। इसमें लोगों को हार्ट अटैक से पीड़ित मरीज के मदद के लिए सीपीआर की ट्रेनिंग दी जाएगी।

priyankajoshi

priyankajoshi

इन्होंने पत्रकारीय जीवन की शुरुआत नई दिल्ली में एनडीटीवी से की। इसके अलावा हिंदुस्तान लखनऊ में भी इटर्नशिप किया। वर्तमान में वेब पोर्टल न्यूज़ ट्रैक में दो साल से उप संपादक के पद पर कार्यरत है।

Next Story