×

यूपी में आतंकी हमले की साजिश, पूछताछ के लिए लखनऊ लाया गया राशिद

राशिद को लखनऊ ले जाकर उससे पूछताछ की जा रही है। गिरफ्तार राशिद से पूछताछ के लिए मिलिट्री इंटेलिजेंस और आईबी की दो अलग-अलग टीमें लखनऊ स्थित एटीएस कार्यालय पहुंची हैं।

Shivakant Shukla

Shivakant ShuklaBy Shivakant Shukla

Published on 20 Jan 2020 5:37 AM GMT

यूपी में आतंकी हमले की साजिश, पूछताछ के लिए लखनऊ लाया गया राशिद
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ/वाराणसी: आईएसआई एजेंटो को सूचना भेजने का आरोपी राशिद अहमद पुत्र इदरीश अहमद तीन दिन की पुलिस कस्टडी रिमांड पर लखनऊ लाया गया है। यूपी एटीएस ने राशिद अहमद को पाकिस्तानी आईएसआई एजेंटो के संपर्क में रहने और फ़ोन द्वारा अति महत्वपूर्ण फ़ोटो भेजने के आरोप में 19 जनवरी को गिरफ्तार कर अभियोग पंजीकृत किया गया था ।

आज सोमवार को गिरफ्तार अभियुक्त राशिद को नियमानुसार न्यायालय के समक्ष पेश कर रिमांड मांगा गया जिस पर न्यायालय द्वारा अभियुक्त की तीन दिवस की रिमांड 21 जनवरी की प्रातः 10 बजे से स्वीकृत की गई है। रिमांड की अवधि में अभियुक्त से विस्तृत पूछताछ की जाएगी।

निम्न बिंदुओं पर पूछताछ करेगी एटीएस

पकिस्तान कनेक्शन के सम्बन्ध में, गिरफ्तार अभियुक्त ने पाकिस्तान जाने के बाद किन-किन लोगो से मुलाकात की इसके सम्बन्ध मे, भारत में सहयोगियों और साथियों के विषय में, इनके क्या.क्या टारगेट थे के संबंध में पूछताछ की जाएगी और गिरफ्तार अभियुक्त के मोबाइल से प्राप्त डाटा से मिली जानकारी के आधार पर अन्य संदिग्ध लोगों के सम्बन्ध में जानकारी की जायेगी। इसके अलावा गिरफ्तार अभियुक्त को आईएसआई एजेंटो ने कितने रुपये गिफ्ट दिये है इसके सम्बन्ध में विस्तृत पूछताछ की जाएगी और

विवेचक द्वारा कस्टडी रिमांड के दौरान विवेचना से संबंधित अन्य तथ्यों के संबंध में विस्तृत पूछताछ की जाएगी।

यह खुफिया सूचनाएं मिली थीं कि 26 जनवरी पर आतंकी अपने नापाक मंसूबों को अंजाम देने के इरादे में हैं। इसके बाद एंटी टेररिस्ट स्क्वाड (एटीएस) की वाराणसी इकाई ने पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के एजेंट को चंदौली के पास से गिरफ्तार किया।

कैसे आया आईएसआई के संपर्क में

चंदौली के मुगलसराय थाना के चौरहट का रहने वाला राशिद अहमद 2018 में कराची में रहने वाली अपनी मौसी के यहां गया था। इसके बाद वहां आईएसआई के संपर्क में आया। मार्च 2019 से वह पैसे के बदले देश के महत्वपूर्ण स्थानों और सैन्य ठिकानों की तस्वीरें आईएसआई को भेजता था।

ये भी पढ़ें—अभी-अभी दिल्ली में लगी भीषण आग: दमकल की 8 गाडियां मौके पर मौजूद

एटीएस के इंस्पेक्टर शैलेन्द्र त्रिपाठी और उनकी टीम ने राशिद के मोबाइल से महत्वपूर्ण सबूत जुटाए हैं।

राशिद से पूछताछ की जा रही है

राशिद को लखनऊ ले जाकर उससे पूछताछ की जा रही है। गिरफ्तार राशिद से पूछताछ के लिए मिलिट्री इंटेलिजेंस और आईबी की दो अलग-अलग टीमें लखनऊ स्थित एटीएस कार्यालय पहुंची हैं।

पाकिस्तान से ट्रेनिंग ले चुका है राशिद

जानकारी के अनुसार राशिद पाकिस्तान से ट्रेनिंग ले चुका है। राशिद सेना के ठिकानों का पता,फ़ोटो व अन्य जानकारी पाकिस्तान भेजता था। यह युवक सैन्य ठिकानों की फोटो खींचकर पाकिस्तान में बैठे ISI को भेज रहा था। सेना के साथ CRPF के ठिकानों की भी रेकी कर चुका था। राशिद पाकिस्तान में बैठे ISI हैंडलर के सीधे संपर्क में था।

ये भी पढ़ें—पक रही राजनीतिक खिचड़ी: सपा मंत्री के भोज में पहुंचे सोनिया गांधी के प्रतिनिधि

फिलहाल राशिद वाराणसी में पोस्टर और बैनर लगाने का काम करता है वहीं 2017 और 2018 में राशिद पाकिस्तान गया था। पाकिस्तानी हैंडलर के कहने पर दो भारतीय सिम एक्टिवेट ओटीपी दिए गए थे। भारतीय सिम कार्ड पर व्हाट्सएप एक्टिव कर आई पाकिस्तानी अपना एजेंडा आर्मी चला रही थी। आरोपी के पास से पेटीएम के माध्यम से 5 हजार रुपये बरामद हुए है।

Shivakant Shukla

Shivakant Shukla

Next Story