Top

अब रामवृक्ष के तीन साथियों की तलाश, सभी पर 5-5 हजार रुपए का इनाम

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 7 Jun 2016 1:02 AM GMT

अब रामवृक्ष के तीन साथियों की तलाश, सभी पर 5-5 हजार रुपए का इनाम
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मथुराः जिले की पुलिस अब जवाहर बाग हिंसा के मास्टरमाइंड रामवृक्ष यादव के तीन करीबी साथियों की तलाश कर रही है। इनके नाम चंदन बोस, राकेश बाबू गुप्ता और विवेश यादव हैं। सभी पर 5-5 हजार का इनाम घोषित किया गया है। इनकी तलाश के लिए विशेष टीमें बनाई गई हैं।

कहां के रहने वाले हैं तीनों?

-चंदन बोस पंजाब के लुधियाना का रहने वाला बताया जा रहा है।

-वहीं, राकेश बाबू गुप्ता और विवेश यादव बदायूं के हैं।

-ये तीनों परिवार के साथ जवाहर बाग में ही रहते थे।

-रामवृक्ष के बाद नंबर दो चंदन बोस हुआ करता था।

क्या थी राकेश और विवेश की जिम्मेदारी?

-राकेश और विवेश भी रामवृक्ष के करीबी साथियों में से थे।

-राकेश बाबू संगठन के लिए रकम जुटाने का काम करता था।

-विवेश यादव जवाहर बाग में संगठन का मैनेजमेंट देखता था।

dm-ssp मथुरा के नए डीएम निखिल चंद्र शुक्ल (दाएं) और एसएसपी बबलू कुमार

नए डीएम-एसएसपी ने बताई प्राथमिकता

-सरकार ने सोमवार को डीएम राजेश कुमार और एसएसपी राकेश सिंह को हटा दिया था।

-राजेश कुमार को प्रतीक्षारत और राकेश सिंह को डीजीपी दफ्तर से अटैच किया गया है।

-निखिल चंद्र शुक्ल ने डीएम और बबलू कुमार ने एसएसपी का चार्ज ले लिया है।

-दोनों अफसरों ने कानून और व्यवस्था की बहाली को अपनी प्राथमिकता बताया।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story