×

UP Election 2022: BJP ने बिधूना से उतारी सबसे कम उम्र की महिला प्रत्याशी, बागी विधायक पिता की सीट से लड़ेंगी चुनाव

UP Election 2022: विनय शाक्य के सपा में शामिल होने के बाद उनकी पुत्री रिया शाक्य ने अपने चाचा देवेश शाक्य के ऊपर अपहरण कर ले जाने का आरोप लगाते हुए एक वीडियो वायरल किया था, जिसमें रिया शाक्य ने अपने चाचा पर कई आरोप लगाए थे।

Network
Published on 22 Jan 2022 3:40 PM GMT
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

UP Election 2022: भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने बीते दिन विधानसभा प्रत्यशियों की दूसरी सूची जारी कर दी है जिसमे भाजपा ने बिधूना विधानसभा से रिया शाक्य (Riya Shakya) को टिकट दिया है। रिया शाक्य वर्तमान में बिधूना विधायक विनय शाक्य की पुत्री है। आपको बता दें कि विनय शाक्य ने हाल ही में अपने भाई देवेश शाक्य के साथ भारतीय जनता पार्टी छोड़ समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए थे।

विनय शाक्य के सपा में शामिल होने के बाद उनकी पुत्री रिया शाक्य ने अपने चाचा देवेश शाक्य के ऊपर अपहरण कर ले जाने का आरोप लगाते हुए एक वीडियो वायरल किया था, जिसमें रिया शाक्य ने अपने चाचा पर कई आरोप लगाए थे।

रिया शाक्य ने वीडियो के माध्यम से अपने चाचा पर हमलावर होते हुए कहा था कि उनके चाचा के दबाव में आकर ही उनके पिता विनय शाक्य सपा में शामिल हो गए हैं। मौजूदा राजनीतिक हालातों को देखते हुए अब भाजपा ने रिया शाक्य को बिधूना से प्रत्याशी घोषित किया है। भाजपा के इस निर्णय के चलते बिधूना इलाके का राजनैतिक माहौल गर्म हो गया है।

रिया शाक्य की तस्वीर

बिधूना से अपनी दावेदारी सिद्ध करते हुए रिया शाक्य ने कहा कि वह भाजपा प्रत्याशी के रूप में पूरे मनोयोग के साथ बिधूना में भाजपा का परचम लहरायेगी, महिला सुरक्षा और विकास रिया शाक्य का चुनावी मुद्दा रहेगा।रिया शाक्य ने अपने चाचा देवेश शाक्य के चुनाव मैदान में अपने के सवाल पर कहा कि चाचा हो या कोई भी हो बिधूना की जनता ने ठान लिया है कि एक बार फिर भाजपा की सरकार उत्तरप्रदेश में बनानी है।

उन्होंने अपने पिता विनय शाक्य के बारे में बताया कि वह न तो ढंग से बोल सकते है न चल सकते है। साथ ही रिया शाक्य ने बताया कि उनके पिता तो इस बार का चुनाव भी लड़ना नहीं चाहते थे तथा वह भाजपा छोड़ना भी नही चाहते थे उनको जबरदस्ती चाचा देवेश शाक्य के द्वारा सपा में शामिल कराया गया है।

आपकी बात दें कि उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव हेतु मतदान 10 फरवरी से लेकर 7 मार्च तक कुल 7 चरणों में आयोजित होने हैं। इसी के पश्चात विधानसभा चुनावों का परिणाम 10 मार्च को घोषित होगा। वहीं बिधूना में तीसरे चरण में यानी 20 फरवरी को मतदान होना है।

Divyanshu Rao

Divyanshu Rao

Next Story