×

UP Election 2022: अनुप्रिया पटेल पहुंची भाजपा कार्यालय, गृहमंत्री अमित शाह के साथ की बैठक, सीट बंटवारे पर चर्चा के आसार

तमाम विशेषज्ञों और प्रदेश की जनता की मानें तो उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव सीधे तौर पर समाजवादी पार्टी और भारतीय जनता पार्टी के इर्द-गिर्द घूम रहा है यानी दोनों दलों में कड़ी टक्कर देखी जा सकती है।

Rajat Verma
Published on 12 Jan 2022 5:55 PM GMT
UP Politics
X

अनुप्रिया पटेल की तस्वीर 

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

UP Election 2022: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर सियासी बिसातें बिछ चुकी हैं। सपा, भाजपा समेत तमाम प्रमुख दल जोरों-शोरों से चुनाव की तैयारियों में लगे हैं।

जैसा कि तमाम विशेषज्ञों और प्रदेश की जनता की मानें तो उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव सीधे तौर पर समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) और भारतीय जनता पार्टी (BJP) के इर्द-गिर्द घूम रहा है यानी दोनों दलों में कड़ी टक्कर देखी जा सकती है।

इन सब के बीच भारतीय जनता पार्टी और समाजवादी पार्टी ने अपने-अपने सहयोगी दलों के साथ सीटों के बंटवारे और अन्य मुद्दों पर चर्चा-विचर्चा शुरू कर दी है।

अपना दल (एस) नेता अनुप्रिया पटेल पहुंची भाजपा कार्यालय

उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी के प्रमुख सहयोगी दल अपना दल (सोनेलाल) की सांसद और वर्तमान में केंद्रीय मंत्री मंत्री अनुप्रिया पटेल (Anupriya Patel) बुधवार को भाजपा कार्यालय पहुँची हैं।

अनुप्रिया पटेल का भाजपा कार्यालय पहुंचने का कारण आगामी प्रदेश विधानसभा चुनाव के मद्देनज़र सीट बंटवारे पर होने वाली चर्चा बताया जा रहा है।

अनुप्रिया पटेल की तस्वीर (फोटो:सोशल मीडिया)

2017 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में भाजपा के सहयोगी के रूप में अपना दल (एस) ने कुल 9 विधानसभा सीटों पर जीत दर्ज की थी हालांकि अभीतक 2022 विधानसभा चुनावों के मद्देनज़र भाजपा ने सहयोगी दलों के साथ सीट बंटवारे को लेकर कोई भी सूची जारी नहीं की है।

समाजवादी पार्टी ने सहयोगी दलों के साथ कि बैठक

समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने बुधवार को लखनऊ में अपने समस्त सहयोगी दलों के साथ एक बैठक का आयोजन किया है। अखिलेश यादव की अध्यक्षता में आयोजित हुई इस बैठक में सुभासपा प्रमुख ओम प्रकाश राजभर, प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) प्रमुख शिवपाल यादव, अपना दल (के) प्रमुख कृष्णा पटेल, रालोद प्रदेश अध्यक्ष समेत कई अन्य नेता भी मौजूद रहे।

सभी दल 2022 विधानसभा चुनावों के मद्देनज़र अपनी-अपनी ताल ठोंक रहे हैं तथा चुनावों की तारीख के ऐलान के बाद से प्रदेश का सियासी पारा और भी अधिक गर्म हो गया है।

फिलहाल बीते कुछ समय से तेज़ी पकड़ चुकी प्रदेश की राजनीति आगामी 10 मार्च 2022 को विधानसभा चुनावों के परिणाम के साथ ही थमेगी।

Divyanshu Rao

Divyanshu Rao

Next Story