यूपी में अब महंगी बिकेगी शराब, प्राप्त धनराशि से गोवंश आश्रय स्थलों का विकास

सीएम योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में देश में बने विदेशी शराब और बीयर पर अतिरिक्त विशेष शुल्क लगाने को मंजूरी दी गई है। इससे सालाना 165 करोड़ रूपये का राजस्व एकत्रित होगा। जिसका इस्तेमाल ग्रामीण व शहरी स्थानीय निकायों में अस्थायी गोवंश आश्रय स्थल के स्थापना और संचालन में किया जाएगा।

यूपी में अब महंगी बिकेगी शराब, प्राप्त धनराशि से गोवंश आश्रय स्थलों का विकास

लखनऊ: सीएम योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में देश में बने विदेशी शराब और बीयर पर अतिरिक्त विशेष शुल्क लगाने को मंजूरी दी गई है। इससे सालाना 165 करोड़ रूपये का राजस्व एकत्रित होगा। जिसका इस्तेमाल ग्रामीण व शहरी स्थानीय निकायों में अस्थायी गोवंश आश्रय स्थल के स्थापना और संचालन में किया जाएगा।

यह भी पढ़ें……शादी समारोह में शराब की अनुमति नीति को चुनौती, सुनवाई 11 जनवरी को

अब प्रदेश में बनी विदेशी मदिरा (इकोनमी श्रेणी को छोड़कर)/बीयर की बोतल भराई पर एक से तीन रूपये प्रति बोतल तक विशेष फीस लगेगी। प्रदेश की इकाईयों में निर्मित मदिरा/बीयर की आयात परमिट फीस के अलावा इस पर भी 50 पैसे से दो रूपये तक प्रति बोतल तक शुल्क लगेगा। इसके अतिरिक्त होटल और बार रेस्टोरेंट में होने वाले विदेशी मदिरा के उपभोग पर 10 रूपये प्रति बोतल और बीयर के उपभोग पर पांच रूपये प्रति बोतल की दर से स्पेशल फीस लगेगी।

यह भी पढ़ें…….आवारा गायों के लिए योगी सरकार ने शराब पर लग दिया टैक्स