UP में Covaxin के तीसरे चरण के ट्रायल को मंजूरी, इन शहरों में होगा परीक्षण

यह ट्रायल यूपी के दो शहरों लखनऊ और गोरखपुर में होगा।  यूपी सरकार ने इसके लिए दो नोडल अधिकारी भी नामित कर दिए है।

Published by suman Published: September 23, 2020 | 9:30 pm
Modified: September 23, 2020 | 9:32 pm
Covaxin

Covaxin file photo

लखनऊ :भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड कोरोना के इलाज के लिए विकसित की गई कोवैक्सीन की तीसरे फेज का ट्रायल यूपी में करेगी। यूपी सरकार ने इसके लिए भारत बायोटेक को मंजूरी दे दी है। यह ट्रायल यूपी के दो शहरों लखनऊ और गोरखपुर में होगा।  यूपी सरकार ने इसके लिए दो नोडल अधिकारी भी नामित कर दिए है।

यह पढ़ें…कोरोना पर अच्छी खबर: नए संक्रमितों के मुकाबले बढ़ रही ठीक होने वालों की संख्या

यूपी सरकार ने दी मंजूरी

भारत बायोटेक के पूर्णकालिक निदेशक डॉ. वी कृष्ण मोहन ने बीती 19 सितंबर को यूपी सरकार से कोरोना वायरस के इलाज के लिए उनकी कंपनी द्वारा विकसित की जा रही कोवैक्सीन के तीसरे फेज के ट्रायल के लिए मंजूरी मांगी थी। इस अनुरोध को स्वीकार करते हुए यूपी के अपर मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद ने भारत बायोटेक को इसकी अनुमति देते हुए कहा है कि इस ट्रायल के लिए जरूरी सभी मंजूरियां कंपनी को स्वयं लेनी होगी। साथ ही कंपनी को क्लीनिकल ट्रायल के लिए भारत सरकार की गाइडलाइन का पूरा पालन करना होगा। इसके साथ ही अपर मुख्य सचिव ने भारत बायोटेक को निर्देशित किया है कि क्लीनिकल ट्रायल के लिए वह अपनी सारी जानकारी अपर मुख्य सचिव चिकित्सा शिक्षा डा. रजनीश दुबे के साथ लगातार साझा करेगी।

clincle trile
सोशल मीडिया

भारत बायोटेक की मदद

यूपी सरकार ने इसके लिए दो नोडल अधिकारी भी नामित किए है, जो इस क्लीनिकल ट्रायल के संबंध में भारत बायोटेक की मदद करेंगे। इसमे लखनऊ के लिए एसजीपीजीआई के निदेशक डा. आरके धीमन तथा गोरखपुर के लिए बीआरडी मेडिकल कालेज गोरखपुर के प्रधानाचार्य डा. गनेश कुमार को नामित किया गया है। ये दोनों नामित नोडल अधिकारी क्लीनिकल ट्रायल के दौरान सभी जरूरी प्रोटोकाल का पालन कराने के लिए जिम्मेदार होंगे।

यह पढ़ें…सियासी वनवास खत्म: किसानों के लिए सड़कों पर उतरे सिद्धू, नियमों की उड़ीं धज्जियां

 

बता दें कि वैक्सीन के परीक्षण के लिए अलग-अलग चरण में ट्रायल किया जाता है और फिर देखा जाता है कि वैक्सीन का कोई साइड इफेक्ट तो नहीं है। पहले चरण में स्वस्थ्य वॉलंटियर्स के छोटे समूह पर वैक्सीन ट्रायल किया जाता है। इसके बाद दूसरे चरण के ट्रायल में यह देखा जाता है कि यह कितना प्रभावशाली है।

 

इसके बाद वैक्सीन तीसरे चरण के ट्रायल में जाती है। फिलहाल भारत बायोटेक की कोवैक्सीन के दो क्लीनिकल ट्रायल हो चुके है। कोवैक्सीने के पहले ट्रायल में 12 साइटों में करीब 375 प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया था जबकि दूसरे ट्रायल में 380 प्रतिभागी शामिल हुए।

 

रिपोर्टर- मनीष श्रीवास्तव

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App