×

Student Police Cadet Programme: यूपी सरकार की पहल,स्कूलों में तैयार होंगे पुलिस के सिपाही

Varanasi News: इसको लेकर बच्चों को थानों समेत सभी गवर्नमेंट ऑफिस में ले जाकर वहां की कार्यप्रणाली से परिचित कराने का प्रक्रिया भी शुरू हो चुका है।

Durgesh Sharma
Written By Durgesh Sharma
Updated on: 22 Nov 2022 11:12 AM GMT
UP government initiative Student Police Cadet Programme police constables will be ready in schools
X

UP government initiative Student Police Cadet Programme police constables will be ready in schools (Social Media)  

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Student Police Cadet Programme: उत्तर प्रदेश सरकार अब छात्र-छात्राओं को SPC यानी स्टू डेंट पुलिस कैडेट बना रही हैं। इसके तहत वाराणसी में 930 छात्र-छात्राएं स्टूडेंट पुलिस कैडेट बनकर तैयार होंगे। इन कैडेट्स को आईपीसी, सीआरपीसी की बारीकियों के बारे में जानकीरी दी जाएगी। इसको लेकर बच्चों को थानों समेत सभी गवर्नमेंट ऑफिस में ले जाकर वहां की कार्यप्रणाली से परिचित कराने का प्रक्रिया भी शुरू हो चुका है। योजना का उद्देश्य समाज में फैली बुराइयों से लड़ने के लिए बच्चों को जागरूक किया जा सके।

यें हैं कार्यक्रम का उद्देश्य

सरकार का प्रयास है कि ड्रग्स, एब्यूज, सेक्शुाअल वॉयलेंस तथा अन्य गंभीर अपराध एवं बुराइयों के प्रति युवाओं में जागरूकता लाई जा सके। इनके माध्यम से आने वाली पीढ़ी एक सशक्त और बेहतर समाज का निर्माण कर सके।

इसके लिए जिलें के शिक्षा विभाग के स्कूलों में ट्रेनिंग प्रोग्राम जारी है। योगी सरकार छात्र छात्राओं को सामाजिक सरोकारों से जोड़ने तथा विभिन्न पहलुओं और कुरीतियों को समझाने के लिए एक बड़ा प्रोग्राम चला रही है।

प्रति माह होती है समीक्षा

वाराणसी में SPC की नोडल अधिकारी और एडिशनल एसीपी महिला सुरक्षा 'ममता रानी' ने कहा कि किशोरावस्था में बच्चों को सुरक्षा और शांति के प्रति जागरूक कर उनमे आत्म बल पैदा करने के नजरिए से यह कार्यक्रम चलाया जा रहा है।

वराणसी डीएम की अध्यक्षता में गठित 4 सदस्यीय कमेटी के द्वारा प्रति माह इसकी समीक्षा की जाती है। इस कार्यक्रम में छात्रों को अलग-अलग तरीकों से प्रशिक्षण दी जाती हैं। थानों समेत लगभग सभी सरकारी कार्यालयों में ले जाकर वहां की कार्य प्रणाली से बच्चों को बताया जाता है। साथ ही सेल्फ डिफेंस के गुर सिखाये जा रहे हैं।

प्रत्यके स्कूल को मिलती है इतने हजार की मदद

डिस्ट्रिकिट इंस्पेक्टर ऑफ स्कूल (DIOS) गिरीश कुमार सिंह ने कहा कि इस योजना में सरकार की तरफ से 50 हज़ार की राशि प्रत्येक स्कूल को दी जाती है। विद्यार्थियों को प्रैक्टिकल नॉलेज के साथ ही विशेषज्ञों द्वारा स्कूलों में भी विभिन्न सामजिक विषयों का पाठ पढ़ाया जा रहा है। फर्स्ट स्टेज में शहर और ग्रामीण एरिया के 31 विद्यालयों के 930 छात्र-छात्राएं स्टूडेंट पुलिस कैडेट बनकर तैयार होंगे।

आपको बता दें कि योजना 2019 से शुरू हुई थी, जो कोरोना महामारी के कारण रुक गई थी। अब यह फिर से चालू की गई है। इसके लिए कक्षा 8 और 9 के ही छात्र-छात्राओं का चुना गया है। प्रत्येक स्कूल से 30-30 बच्चोंब को इस प्रोग्राम से जोड़ा गया है।

Durgesh Sharma

Durgesh Sharma

Next Story