×

उत्तर प्रदेश की बंद चीनी मिलें फिर से खुलेंगी, नई मिलें भी खोलेगी योगी सरकार

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 29 March 2017 4:25 PM GMT

उत्तर प्रदेश की बंद चीनी मिलें फिर से खुलेंगी, नई मिलें भी खोलेगी योगी सरकार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ : उत्तर प्रदेश में चीनी मिलों का बोतल में पड़ा जिन्न फिर से बाहर निकल आया है। बंद पड़ी उत्तर प्रदेश की चीनी मिलों को खोलने के लिए अब राज्य सरकार ने कोशिशें शुरु कर दी है। उत्तर प्रदेश सरकार के प्रवक्ता श्रीकांत शर्मा के मुताबिक बंद पड़ी चीनी मिलों को खोलने के अलावा नई चीनी मिलें भी भी खोली जाएंगी।

ये भी देखें :एंटी रोमियो स्क्वॉयड ने जब प्रेमी को कूटा तो प्रेमिका ने लिखा, ई यूपी का धरती प्रेम के लिए हराम है

चीनी मिल से खुलेगी किसानों की तकदीर

श्रीकांत शर्मा के मुताबिक प्रदेश की सरकार यूपी के गन्ना किसानों के कल्याण के लिए प्रतिबद्ध है ऐसे में सरकार नई मिलें खोलने के प्रस्ताव पर भी विचार कर रही है। ऐस करने से न सिर्फ फसल बल्कि रोजगार भी बढेंगे। वहीं बंद पड़ी पुरानी मिलों को लेकर अब रोडमैप तैयार है और उसे लागू किया जाने की तैयारी है।

पर चीनी मिल घोटाले की जांच नही

चीनी मिलों के घोटाले के लेकर मायावती शासन में भाजपा ने खूब हो हल्ला मचाया था चीनी मिलों के बेचने पर 11 अरब का घोटाला बताया था और इसके लिए बाकायदा भ्रष्टाचार उजागर समिति बनाकर उसके अध्यक्ष वर्तमान सांसद किरीट सोमैय्या ने तत्कालीन राज्यपाल बीएल जोशी को चिट्ठी भी लिखी थी।

इसके बाद आयी अखिलेश सरकार वादा करके मायावती सरकार के इस घोटाले की जांच से मुकर गयी थी। वह भी तब जब उसके ही विधायक ने सवाल उठाकर सरकार को वादा याद दिलाया था। वर्तमान सरकार भी इस मुद्दे पर गोलमोल ही जवाब दे रही है। सवाल पूछने पर भी जवाब सिर्फ यही आया कि सरकार अभी पुरानी मिलों को खोलने की बात कर रही है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story