×

BJP के टिकट पर लड़ने गए थे लोक सभा चुनाव, अब बने एडीजी ज़ोन गोरखपुर

नाम - दावा शेरपा बैच 1991, आरोप सर्विस ब्रेक कर सात वर्षों तक लापता रहे, एडीजी ज़ोन गोरखपुर बने, नाम प्रेम प्रकाश आरोप योगी सरकार में कद्दावर मंत्री रीता बहुगुणा जोशी का घर जलाने वालों की मदद करना, एडीजी ज़ोन बरेली बने .. नाम जय नारायण सिंह पद आईजी लखनऊ के पद से हटाए गए वजह एसएसपी लखनऊ दीपक कुमार से 36 का आकड़ा। नाम - डीके ठाकुर आरोप स

Anoop Ojha

Anoop OjhaBy Anoop Ojha

Published on 2 Feb 2018 1:56 PM GMT

BJP के टिकट पर लड़ने गए थे लोक सभा चुनाव, अब बने एडीजी ज़ोन गोरखपुर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: नाम- दावा शेरपा, बैच 1991, आरोप सर्विस ब्रेक कर चार वर्षों तक लापता रहे, एडीजी ज़ोन गोरखपुर बने, नाम प्रेम प्रकाश आरोप योगी सरकार में कद्दावर मंत्री रीता बहुगुणा जोशी का घर जलाने वालों की मदद करना, एडीजी ज़ोन बरेली बने .. नाम जय नारायण सिंह पद आईजी लखनऊ के पद से हटाए गए वजह एसएसपी लखनऊ दीपक कुमार से 36 का आकड़ा। नाम - डीके ठाकुर आरोप सपा नेता को हज़रतगंज चौराहे पर बूटों से रौंदने का, आईजी रेंज बरेली बनाये गए।

भाजपा के टिकट पर दार्जलिंग से लोक सभा चुनाव लड़ने गए थे दावा शेरपा

यूपी में जितना हल्ला तबादलों से नहीं हुआ उस से ज़्यादा खुसुर फुसुर इस बात को लेकर हो रही है कि आखिर पोस्टिंग का पायमाना क्या है। उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने लम्बे वनवास के बाद सर्विस ब्रेक कर पांच वर्षों से अधिक तक लापता रहने वाले 1991 बैच के आईपीएस अफसर दावा शेरपा को एडीजी ज़ोन गोरखपुर की ज़िम्मेदारी दी गई है, दावा शेरपा 2009 में भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर लोक सभा का चुनाव लड़ने गए थे। पार्टी ने उन के नाम का एलान भी कर दिया था। लेकिन अचानक पार्टी ने दावा शेरपा का टिकट काट कर वरिष्ठ भाजपा नेता जसवन्त सिंह को दार्जलिंग से लोक सभा उम्मीदवार बना दिया।

सोनभद्र, भदोही, सुल्तानपुर और मुज़फ्फरनगर के रह चुके हैं कप्तान

इस दौरान क़रीब पांच वर्ष तक वह यूपी से गायब रहे। एसपी सोनभद्र, भदोही, सुल्तानपुर और मुज़फ्फरनगर समेत एक दर्जन ज़िलों में बतौर पुलिस कप्तान रहे दावा शेरपा राजनीति में अच्छी खासी दिलचस्पी रखते थे। यही वजह रही की एक दर्जन ज़िलों में कप्तानी कर चुके दावा शेरपा यूपी से अचानक लापता हो गए। 2009 के लोक सभा चुनाव में दावा शेरपा को दार्जलिंग लोक सभा सीट से भाजपा का टिकट मिलने के बाद उनका टिकट काट दिया गया। राजनीति की पहली बाल पर ही आउट होने के बाद दावा शेरपा वापस यूपी लौट आये। लम्बी जद्दो - जहद के बाद उन्हें 2012 में ज्वाइनिंग भी मिल गई। इस के बाद 6 दिसंबर 2013 को उन्हें प्रमोट कर डीआईजी और फिर आईजी बना दिया गया। 1 जनवरी 2016 को दावा शेरपा प्रमोट होकर एडीजी बने वर्तमान में दावा शेरपा एडीजी सीबीसीआईडी थे। जिन्हे योगी सरकार ने एडीजी ज़ोन गोरखपुर बना दिया है।

प्रेम प्रकाश को एडीजी ज़ोन बरेली प्रेम प्रकाश को एडीजी ज़ोन बरेली

माया शासनकाल के विवादित प्रेम प्रकाश और डीके ठाकुर को मिली अहम् तैनाती

आज हुए तबादलों में योगी सरकार में कद्दावर मंत्री रीता बहुगुणा जोशी का घर जलाने वालों की मदद करने के आरोपी प्रेम प्रकाश को एडीजी ज़ोन बरेली बनाया गया है। 16 जुलाई 2009 को मुख्यमंत्री कार्यालय यानि एनेक्सी भवन के सामने योगी सरकार में मंत्री व तत्कालीन कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष रीता बहुगुणा जोशी का घर फूंक दिया गया था। तत्कालीन सीएम मायावती पर रीता जोशी के बयान से नाराज़ उग्र बसपाइयों ने घर को आग लगा दी थी। उस समय प्रेम प्रकाश लखनऊ डीआईजी/एसएसपी के तौर पर तैनात थे उन पर जानबूझ कर घटना स्थल पर देर से पहुंच कर आरोपियों की मदद करने का आरोप था।

BJP के टिकट पर लड़े लोक सभा चुनाव, अब बने एडीजी ज़ोन गोरखपुर केंद्रीय प्रतिनियुक्ति से वापस लौटे डी के ठाकुर

केंद्रीय प्रतिनियुक्ति से वापस लौटे डी के ठाकुर को आईजी रेंज बरेली बनाया गया है। 2011 में मायावती के शासनकाल में डीआईजी / एसएसपी लखनऊ रहे डी के ठाकुर पर सपा नेता आनन्द भदौरिया को बूटों से रौंदने का आरोप था जिस के बाद वर्ष 2012 में अखिलेश यादव ने यूपी की कमान संभालते ही सब से पहले डीके ठाकुर का तबादला आरटीसी चुनार कर दिया था जिस के बाद से वह लगातार साइड पोस्टिंग में ही चल रहे थे।

BJP के टिकट पर लड़े लोक सभा चुनाव, अब बने एडीजी ज़ोन गोरखपुर आईजी लखनऊ जय नारायण सिंह

तबादलों की ज़द में आईजी लखनऊ जय नारायण सिंह भी आये हैं एसएसपी लखनऊ दीपक कुमार और आईजी लखनऊ जय नारायण सिंह के बीच लम्बे समय शीत युद्ध चल रहा था जिस का असर राजधानी की क़ानून व्यवस्था पर भी नज़र आने लगा था अब लम्बी जद्दो जहद के बाद आखिरकार आईजी को हटा दिया गया है इसे एसएसपी खेमे की बड़ी जीत के तौर पर भी देखा जा रहा है।

Anoop Ojha

Anoop Ojha

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story