UP- विधान सभा: दुर्घटनाओं को लेकर कमिटी का गठन- सुरेश खन्ना

प्रश्नकाल में एक सवाल के जवाब में संसदीय कार्य मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने बताया कि पिछले दिनों आगरा एक्सप्रेस-वे पर हुयी बस दुर्घटना के बाद ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति रोकने के लिए परिवहन आयुक्त की अध्यक्षता में एक कमेटी बनायी गयी थी। उसकी सिफारिशों को अमल में लाया जायेगा।

यूपी विधानसभा का मानसून सत्र: विधान परिषद में चार विधेयक पारित

लखनऊ: प्रश्नकाल में एक सवाल के जवाब में संसदीय कार्य मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने बताया कि पिछले दिनों आगरा एक्सप्रेस-वे पर हुयी बस दुर्घटना के बाद ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति रोकने के लिए परिवहन आयुक्त की अध्यक्षता में एक कमेटी बनायी गयी थी। उसकी सिफारिशों को अमल में लाया जायेगा।

प्रश्न प्रहर में ही बसपा के वरिष्ठ सदस्य उमाशंकर सिंह व सपा के नफीस ने खाद्य पदार्थों में मिलावट का मामला उठाया। खाद्य रसद राज्य मंत्री अतुल गर्ग ने बताया कि इस बारे में केन्द्र सरकार के बनाये गये कानून के तहत कार्रवाई हो रही है और जो सुझाव आ रहे हैं, उनपर कानून बनाने का विचार किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें…..चौथी बार कर्नाटक के मुख्यमंत्री बने येदियुरप्पा, 31 जुलाई तक करना है बहुमत साबित

विधान सभा में आज वरिष्ठ सदस्य और विभिन्न सरकारों में कैबिनेट मंत्री रहे फागू चौहान को बिहार का राज्यपाल बनाये जाने पर बधाई प्रस्ताव संसदीय कार्य मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने रखा। उन्होंने कहा कि यह बड़े फख्र की बात है कि इस सदन के एक वरिष्ठ सदस्य फागू चौहान को बिहार जैसे बड़े राज्य में संवैधानिक प्रमुख की जिम्मेदारी सौंपी गयी है।

यह भी पढ़ें…..जानिए क्यों उमर अब्दुल्ला ने कहा अब नहीं करेंगे चुनाव बहिष्कार?

उनके संसदीय अनुभवों का इस सदन को लम्बे समय तक लाभ मिला है। छह बार विधायक और विभिन्न सरकारों में कैबिनेट मंत्री रहते हुए उन्होंने अपने दायित्वों का सफलतापूर्वक निर्वहन किया है। मंत्री और क्षेत्र के विधायक होने के नाते उनकी सेवाओं को कभी भुलाया नहीं जा सकता।

उनके बधायी प्रस्ताव पर सपा के वरिष्ठ सदस्य इकबाल महमूद, बसपा के लालजी वर्मा, कांग्रेस के अजय कुमार लल्लू व कैबिनेट मंत्री चौधरी लक्ष्मी नारायण ने भी बधाई प्रस्ताव का समर्थन करते हुए फागू चौहान की सदन को दी गयी सेवाओं को अनुकरणीय बताया। इस मौके पर सदन में मौजूद फागू चौहान ने कहा कि एक ओर जहां उन्हें नया दायित्व मिलने की खुशी है वहीं इस सदन के छूटने का अफसोस भी है।

इसके बाद 18 जुलाई से शुरू हुयी सदन की कार्यवाही राष्ट्रगान के साथ अनिश्चितकाल के लिए स्थगित हो गयी