Top

बस्ती: BJP प्रत्याशियों की करारी हार, 43 में से 9 सीटों पर मिली जीत

बस्ती में जिला पंचायत सदस्य पद के चुनाव में भाजपा को करारी हार मिली है।

Amril Lal

Amril LalReporter Amril LalAshiki PatelPublished By Ashiki Patel

Published on 4 May 2021 1:24 PM GMT

BJP
X

File Photo

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बस्ती: बस्ती जिले में जिला पंचायत सदस्य पद के चुनाव में भाजपा की करारी हार मिली है। यह हाल तब है, जब पार्टी के सांसद के अलावा पांच विधायक भाजपा के हैं।इस हार का ठिकरा जिला अध्यक्ष ने पार्टी की सेवा ही संगठन अभियान पर फोड़ दिया है। कहा करोना काल के चलते पार्टी ने इस अभियान को प्राथमिकता दी लिहाजा कोई चुनाव पर ध्यान केंद्रित नहीं कर पाया।

भाजपा ने सभी 43 वार्डों पर जिला पंचायत सदस्य पद के लिए प्रत्याशी उतारे थे इसी राह पर सपा बसपा कांग्रेस और आम आदमी पार्टी भी चली सपा ने इस चुनाव में बेहतर प्रदर्शन किया। जिला अध्यक्ष महेंद्र यादव का दावा है सपा समर्थित 20 प्रत्याशी चुनाव जीत गए हैं सपा के शैलेंद्र पांडे विक्रमजोत प्रथम से चौथी बार चुनाव जीते हैं।

वहीं सपा जिला अध्यक्ष महेंद्र यादव दावा ठोक रहे हैं कि मेरी पार्टी अच्छा प्रदर्शन किया लेकिन खुद के भाई अमरेंद्र यादव को चुनाव मैदान में उतारे थे लेकिन चुनाव नहीं जीता पाए। बसपा 36 सीटों पर प्रत्याशियों को लगाया था, लेकिन यह पुष्टि नहीं कर रहे हैं कि कितने कैंडिडेट मेरे जीते। भाजपा की बात करें तो मात्र 9 सीटों पर भाजपा समर्थित प्रत्याशियों ने चुनाव जीते।

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय मंत्री और बस्ती सांसद हरीश द्विवेदी के प्रतिनिधि राजेश पाल हरैया तृतीय से चुनाव हार गए इस सीट पर जीत दिलाने के लिए माननीय भी उतर गए थे फिर भी पार्टी की साख नहीं बचा पाए। भाजपा युवा मोर्चा के पूर्व जिला अध्यक्ष सत्येंद्र शुक्ला जी पी सल्टऊ तृतीय से चुनाव हार गए, रुधौली से रणवीर सिंह की पत्नी मंजू सिंह चुनाव हार गई वहीं पार्टी के जिला अध्यक्ष महेश शुक्ला से बातचीत में कहा कि कई निर्दल चुनाव जीतने वाले पार्टी के संपर्क में हैं निर्दलीयों को जोड़कर पार्टी को मजबूत भूमिका का निर्वहन करेंगी। कहीं ना कहीं निर्दल प्रत्याशी सत्ता प्रभारी रिक्शा क्योंकि ज्यादातर प्रत्याशी उम्मीदवार निर्दल ही थे जो चुनावी मैदान में अपना परचम लहराए।

Ashiki

Ashiki

Next Story