Top

पंचायत चुनावः रायबरेली से जालौन तक मतदान के खास इंतजाम, ऐसा रहेगा माहौल

गुरूवार को रायबरेली में पंचायत चुनाव के लिए पहले चरण के मतदान होने हैं।

Narendra Singh

Narendra SinghReport By Narendra SinghAfsar HaqReport By Afsar Haq

Published on 14 April 2021 2:53 PM GMT

पंचायत चुनाव की तैयारी
X

पंचायत चुनाव की तैयारी (Photo Social media)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: निर्वाचन आयोग ने पंचायत चुनाव स्थगित न करने का एलान कर दिया है। ऐसे में पहले चरण के मतदान कल यानी गुरूवार से होने हैं। इसके लेकर जिन जिलों में मतदान होने हैं, वहां बूथ के लिए पोलिंग पार्टियां रवाना हो गयीं। साथ ही पुलिस बल भी मुस्तैद हो गई है। पुलिस-प्रशासन की प्राथमिकता कोरोना संकट के बीच गाइडलाइन का पालन करते हुए शांतिपूर्ण तरीके से मतदान सम्पन्न कराना है।

दरअसल, गुरूवार को रायबरेली में पंचायत चुनाव के लिए पहले चरण के मतदान होने हैं। आज 18 ब्लॉक मुख्यालयों से पोलिंग पार्टियां रवाना हो चुकी हैं। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव 2021 में ग्राम प्रधान बीडीसी मेंबर और ग्राम पंचायत सदस्य सहित 52 जिला पंचायत सदस्य पद के लिए कल वोट डाले जाएंगे। मतदान के लिए 3596 पोलिंग पार्टियां लगाई गई है। जिले के 1490 मतदान केंद्रों पर में 14384 मतदान कर्मी तैनात रहेंगे

12000 पुलिसकर्मी रायबरेली पंचायत चुनाव में तैनात

मतदान केंद्रों की सुरक्षा के लिए 12000 पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है। जिसमें से 7000 सुरक्षा बल दूसरे जनपद के हैं, जबकि 5000 पुलिस बल रायबरेली जिले के ही हैं। मतदान केंद्रों की सुरक्षा के लिए फाइव लेयर सुरक्षा तय की गई है। पहले चरण में सेक्टर पुलिस बल, दूसरे लेयर में क्लस्टर मोबाइल, तीसरे लेयर में जोनल पुलिस अफसर, चौथे लेयर में थाना प्रभारी और इंस्पेक्टर जबकि पत्थर पांचवें चरण में एसडीएम और सीओ सुरक्षा की कमान संभालेगे।


कोरोना से बचने के लिए पुलिस महकमे ने सभी मोबाइल पुलिसकर्मियों को कोरोना किट उपलब्ध कराई है। रायबरेली में 106 मतदान केंद्र अति संवेदनशील प्लस की श्रेणी में हैं जिनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी पीएसी को दी गई जबकि 174 अति संवेदनशील मतदान केंद्र भी पीएससी की निगरानी में रहेंगे। 172 मतदान केंद्र संवेदनशील हैं जिनकी सुरक्षा पुलिस पिकेट को दी गई है। पहले चरण में होने वाले मतदान को सकुशल संपन्न कराने के लिए 32 बॉर्डर सील किए गए हैं।

जालौन में चुनाव को लेकर झांसी कमिश्नर और डीआईजी का दौरा

इसके अलावा जालौन में 26 अप्रैल को मतदान होना है, जिसकी तैयारियां भी जोरों शोरों से हो रही हैं। चुनाव को लेकर आज झांसी कमिश्नर सुभाष शर्मा और डीआईजी जोगेंद्र सिंह उरई मुख्यालय पहुंचे, जहां विकास भवन सभागार में जिले में चल रहे नामांकन प्रक्रिया के साथ 26 अप्रैल को होने वाले मतदान को लेकर गहन समीक्षा बैठक की। उन्होंने 26 अप्रैल को होने जा रहे मतदान के दिन सभी आरओ,एसडीएम और सीओ को निर्देशित किया।


उन्होने जिले के ग्रामीण क्षेत्रों के प्रत्याशियों को मत को रिझाने के लिए अपनाए जा रहे हथकंडों पर पैनी नज़र रखने को कहा। उन्होने साफ कहा कि जरा सी गड़बड़ी मिली तो कतई कोई बख्शा नहीं जाएगा।

डीआईजी ने कहा कि जालौन मध्य प्रदेश की सीमा से जुड़ा होने के कारण अवैध शराब हथियार का चोरी छुपे आदान प्रदान हो जाता है, इसको पूर्ण रूप से रोकने के लिए पुलिस कर्मियों को बॉर्डर पर क्रॉस चेकिंग के साथ अपने मुखबिर तंत्र को मजबूत करना होगा। जिससे पंचायत चुनाव में किसी भी गड़बड़ी को होने से पहले ही रोका जा सके।

Shivani

Shivani

Next Story