×

योगी जी ! यूपी परिवहन की जनरथ-शताब्दी बसों में महंगाई डायन खाए जात है !

परिवहन निगम ने डीजल के दामों का हवाला देकर अपनी रोडवेज बसों के किराए में बढ़ोतरी तो कर दी है। लेकिन, इससे एक आम परिवार के जीवन पर गहरा असर पड़ा है।

tiwarishalini

tiwarishaliniBy tiwarishalini

Published on 9 Oct 2017 7:10 AM GMT

योगी जी ! यूपी परिवहन की जनरथ-शताब्दी बसों में महंगाई डायन खाए जात है !
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ : परिवहन निगम ने डीजल के दामों का हवाला देकर अपनी रोडवेज बसों के किराए में बढ़ोतरी तो कर दी है। लेकिन, इससे एक आम परिवार के जीवन पर गहरा असर पड़ा है। फेस्टिव सीजन में 9 पैसा प्रति किलोमीटर किराया बढ़ने से साधारण बसों में 86 पैसे के स्थान पर 95 पैसे प्रति किलोमीटर यात्रियों को देना पड़ रहा है। यानि न्यूनतम किराया अब 95 पैसे हो चुका है। दीपावली में ट्रेनों में सीटें भर जाने के बाद रोडवेज बसें लोगों के घर जाने का विकल्प होती हैं। एक आम परिवार शताब्दी और जनरथ बसों को घर जाने के लिए चुनता है क्योंकि इन बसों के किराए साधारण बसों की तुलना में कुछ ही अधिक पड़ते हैं। लेकिन, दीपावली में अचानक किराया बढ़ने से एसी बसों में सफर करना पहले से अधिक महंगा हो गया है। लोगों पर त्योहारी बोझ बढ़ गया है। अगर हम किरायों के आंकड़ों की बात करें तो शायद ही कोई फेस्टिवल में परिवहन निगम की एसी बसों से घर जाना पसंद करेगा।

यह भी पढ़ें .... यूपी परिवहन निगम जरा इन बातों पर दे ध्यान, तो बन सकती है बात

यहां हम परिवहन निगम की शताब्दी ऐसी बसों की बात करें तो अब प्रति यात्री 100 रुपए अधिक देने पड़े रहे हैं। एक परिवार में कम से कम 5 लोग होते हैं। अगर यह लोग अपने गंतव्य स्थान जाने के लिए रोडवेज बसों का सहारा लेते हैं तो एक लोग पर 100 रुपए अधिक किराया पड़ेगा। जैसे चारबाग से मऊ जाने वाली शताब्दी एसी बस का किराया अब 625 रुपए हो गया है। पहले केवल 542 रुपए में यात्री मऊ पहुंच जाया करते थे। यानी एक सदस्य पर तकरीबन 100 रुपए का भार ज्यादा पड़ रहा है। इस तरह परिवार के 5 लोगों पर 500 का रुपए का अतिरिक्त बोझ आ रहा है। इसी तरह आनंद विहार से लखनऊ शताब्दी बस का किराया पहले 963 रुपए था। लेकिन, अब यात्रियों को 1052 रुपए अधिक चुकाने पड़ रहे हैं। इस तरह से परिवहन निगम ने यात्रियों को दीपावली फेस्टिवल पर बोझ बढ़ा दिया है।

यह भी पढ़ें .... यूपी परिवहन निगम की बसों को दुर्घटनाग्रस्त होने से बचा सकता है ‘यूटीएस’

साधारण बसों के किराए पर एक नजर

(सभी किराए दर कैसरबाग बस स्टेशन से वर्तमान में लागू हैं)

कहां से कहां तक पहले अब

कैसरबाग बहराइच 132 137

कैसरबाग आनंद विहार 507 547

कैसरबाग फैजाबाद 138 150

कैसरबाग लखीमपुर 138 151

कैसरबाग बरेली 248 272

कैंसरबाग गोंडा 115 126

ये वर्तमान के साधारण बसों के कैसरबाग बस स्टेशन से चलने वाली साधारण बसों के किराए हैं। यात्रियों को दीपावली में इतने अधिक किराए चुकाने होंगें।

वोल्वो और स्कैनिया का किराया आम परिवार के बजट से बाहर

परिवहन निगम की एसी बसों में जनरथ, शताब्दी, वोल्वो और स्कैनियां आती हैं। इसमें जनरथ और शताब्दी का किराया तो एक आम परिवार के बजट में आता है। लेकिन, वोल्वो और स्कैनिया बसों से सफर सबके बस की बात नहीं होती है। इसलिए पिछले कई सालों में फेस्टिव सीजन में भी वोल्वो बसें की सीटें खाली रह जाती हैं।

यह भी पढ़ें .... … और जब योगी के मंत्री ने खुद की सरकारी बस की धुलाई, आप भी देखिए

आंकड़े बोल रहे हैं

वोल्वो और स्कैनिया के किराए इतने अधिक पड़ रहे हैं कि एक आम परिवार इनसे सामूहिक तौर पर यात्रा नहीं कर सकता है। इसके बाद किराए बढ़ने से इस बार भी वोल्वो की कई बसें त्योहार में खाली रहने की उम्मीद है।

कहां से कहां तक जनरथ वोल्वो स्कैनिया

चारबाग मऊ 625 1007 नहीं है

चारबाग वाराणसी 595 924 नहीं है

चारबाग गोरखपुर 534 904 907 सोनौली तक

यहां देखिए

अक्सर चारबाग से सिधौली जाने वाले यात्री आशीष सिंह ने बताया कि पहले सिधौली जाने के लिए केवल 45 रुपए खर्च करने पड़ते थे। लेकिन अब 51 रुपए खर्च करने पड़ रहे हैं।

tiwarishalini

tiwarishalini

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story