×

उप्र में सहकारिता को 45.71 करोड़ का मुनाफा : मुकुट बिहारी वर्मा

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 7 Oct 2017 2:54 PM GMT

उप्र में सहकारिता को 45.71 करोड़ का मुनाफा : मुकुट बिहारी वर्मा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के सहकारिता मंत्री मुकुट बिहारी वर्मा ने कहा कि प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सरकार बनने के बाद पहली बार सहकारिता (कोऑपरेटिव) को छह माह में 45.71 करोड़ रुपये का शुद्ध मुनाफा हुआ है। यह मुनाफा विगत वर्षो की तुलना में सर्वाधिक है।

ये भी देखें: वीरभद्र सिंह सातवी बार प्रदेश के CM बनेंगे : कह रहे हैं राहुल

भाजपा के प्रदेश मुख्यालय पर शनिवार को जन सहयोग कार्यक्रम के दौरान मुकुट बिहारी ने कहा, "16 जिला सहकारी बैंक पिछली सरकारों के कार्यकाल के दौरान बंद पड़े थे। इसके चलते जनता को पैसा नहीं मिल पा रहा था, उनमें से आठ बैंकों से लेनदेन की प्रक्रिया शुरू हो गई है।"

उन्होंने बताया कि शेष आठ बैंकों से भी भुगतान शुरू कर दिया गया है। सरकार का प्रयास है कि जल्द ही शेष आठ बैंकों का भुगतान सामान्य हो।

ये भी देखें: अय्यर के निशाने पर गांधी परिवार, ‘मां-बेटे के रहते किसी का भला नहीं’

सहकारिता मंत्री ने बताया, "प्रदेश के सभी कोऑपरेटिव बैंकों को सीसीटीवी कैमरों से लैस कर दिया गया है। इस वर्ष गेहूं खरीद में विभाग 130 करोड़ रुपये का कमीशन प्राप्त हुआ है। भ्रष्टाचार के आरोप में 25 अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की गई। सहकारिता विभाग ने बैंक ऋण ब्याज भवन खरीद पर एक प्रतिशत की कमी की है, वहीं कार खरीद पर 0.5 प्रतिशत की ब्याज दर में कटौती की गई है।"

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story