Top

नाईक ने किया बजरंग दल की ट्रेनिंग का समर्थन, कहा- इसमें कुछ गलत नहीं

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 25 May 2016 12:13 AM GMT

नाईक ने किया बजरंग दल की ट्रेनिंग का समर्थन, कहा- इसमें कुछ गलत नहीं
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

अलीगढ़ः यूपी के राज्यपाल राम नाईक के एक बयान को लेकर फिर विवाद खड़ा हो सकता है। दरअसल, नाईक ने कहा है कि अयोध्या के कारसेवक पुरम में बजरंग दल के सदस्य हथियार चलाने की जो ट्रेनिंग ले रहे हैं, वह गलत नहीं है। बता दें कि बजरंग दल के सदस्यों का फोटो और वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें वे हाथों में रायफल, तलवारें और लाठी लेकर ट्रेनिंग करते नजर आ रहे हैं।

क्या कहा राज्यपाल ने?

-अलीगढ़ के अतरौली में एक कार्यक्रम में गए थे राज्यपाल राम नाईक।

-एक अंग्रेजी अखबार से कहा कि जो खुद की सुरक्षा नहीं कर सकते, वे देश की भी नहीं कर सकते।

-राज्यपाल ने कहा कि अगर खुद की सुरक्षा की ट्रेनिंग युवा ले रहे हैं, तो गलत नहीं है।

-खुद की सुरक्षा करने की शिक्षा भी जरूरी है, इस ट्रेनिंग का इरादा गलत नहीं होना चाहिए।

-राम नाईक ने कहा कि हर नागरिक को सेल्फ डिफेंस की ट्रेनिंग लेनी चाहिए।

बजरंग दल की ट्रेनिंग पर उठे थे सवाल

-अयोध्या के कारसेवकपुरम में बजरंग दल के ट्रेनिंग का वीडियो और फोटो वायरल हुए थे।

-इसमें कुछ लोग सिर पर टोपी पहने आतंकवादी जैसे दिखाए गए थे।

-बजरंग दल के यूपी संयोजक सुरेंद्र मिश्रा ने कहा है कि किसी समुदाय की भावना को आहत नहीं करना चाहते।

-सुरेंद्र ने कहा कि किसी ने भी टोपी पहनकर आतंकी की भूमिका नहीं की थी।

आजम ने नाईक पर उठाए थे सवाल

-बता दें कि यूपी के कैबिनेट मंत्री आजम खान ने राज्यपाल राम नाईक पर कई बार उंगली उठाई है।

-एक बार आजम ने कहा था कि राज्यपाल ने राजभवन को संघ का दफ्तर बना दिया है।

-आजम ने ये भी कहा था कि नाईक राज्यपाल के पद पर रहने लायक नहीं हैं।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story