Top

MLC चुनाव: जमकर हो रही क्रास वोटिंग, सपा की बढ़ीं मुश्‍किलें

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 9 Jun 2016 6:33 PM GMT

MLC चुनाव: जमकर हो रही क्रास वोटिंग, सपा की बढ़ीं मुश्‍किलें
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊः यूपी विधान परिषद की 13 सीटों पर शुक्रवार को हो रहे चुनाव में जमकर क्रास वोटिंग हो रही है। सपा सरकार में मंत्री विनोद कुमार सिंह ऊर्फ गुड्डु पंडित और उनके भाई मुकेश कुमार ने बीजेपी के पक्ष में वोट दिया है। क्रास वोटिंग के सवाल पर मंत्री विनोद कुमार सिंह का कहना है कि उन्होंने अपनी आत्मा की आवाज पर वोट दिया है। कोई सिर पर वार करेगा तो जवाब देंगे।

विधायक खासकर दूसरी वरीयता पर क्रास वोटिंग कर रहे हैं।​ मिल रही सूचना के अनुसार बीजेपी के पक्ष में क्रास वोटिंग ज्यादा हो रही है। सपा के अलावा बसपा के भी कुछ विधायक बीजेपी के पक्ष में वोट दे रहे हैं। यूपी में विधान परिषद की 13 सीटों पर वोटिंग शुरू हो चुकी है। इसके लिए 14 उम्मीदवार मैदान में हैं।

यह भी पढ़ें...RS-MLC चुनाव: क्रॉस वोटिंग और वरीयता की भूल भी बिगाड़ सकती है खेल

सपा विधायक पर क्रॉस वोटिंग का आराेप

-सपा विधायक शारदा प्रताप शुक्‍ल पर क्रॉस वोटिंग का आराेप लगा है

-हालांकि उन्‍होंने इसका पूर्णतयः किया खंडन कहा कि मैं कभी पार्टी नहीं छोड़ूंगा।

-शुक्‍ल ने कहा कि मैने समाजवादी पार्टी को वोट दिया है जो लोग आरोप लगा रहे हैं वो लोग झूठे हैं।

मुख्‍तार नहीं डाल पाएंगे वोट

-मऊ से कौमी एकता दल पार्टी के एमएलए मुख्तार अंसारी वोट डालने नहीं आ पाएंगे।

-मुख्‍तार अंसारी आगरा के सेंट्रल जेल में बंद हैं।

-कोर्ट ने मुख्तार को लखनऊ जाने की इजाजत नहीं दी है।

विधान परिषद का गणित

-सपा के 8 उम्मीदवार हैं। इन्हें जिताने के लिए 232 विधायक चाहिए।

-बीएसपी के 3 प्रत्याशी हैं। उसके विधायकों की तादाद 80 है, 7 और विधायक चाहिए।

-बीजेपी के 2 उम्मीदवार हैं। उसके पास 41 विधायक हैं, 12 और विधायक चाहिए।

-कांग्रेस का 1 प्रत्याशी है। उसके पास 29 विधायक हैं जिन्हें टूटने से बचाना है।

बीजेपी को चाहिए 12 और वोट

-बीजेपी ने विधान परिषद चुनावों में भूपेंद्र सिंह और दयाशंकर को प्रत्याशी बनाया है।

-दयाशंकर को जिताने के लिए बीजेपी को और 12 वोटों की जरूरत होगी।

-इसके लिए बीजेपी पूरी ताकत लगा रही है।

-दूसरे दलों के बागियों और अगले चुनाव में टिकट की उम्मीद लगाए विधायकों पर बीजेपी की है नजर।

-वोट प्रबंधन की जिम्मेदारी पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पुरुषोत्तम रुपाला, महासचिव अनिल जैन और लखनऊ के मेयर दिनेश शर्मा को मिली।

यह भी पढ़ें...प्रीति महापात्रा दोहरा पाएंगी राज्यसभा में राजीव शुक्ला का इतिहास ?

सपा में शिवपाल ने ली बैठक

-सपा के महासचिव और यूपी प्रभारी शिवपाल यादव ने विधायकों की बैठक ली। मान-मनौव्वल भी हुआ।

-सेक्टर प्रभारी मंत्रियों को विधायकों पर नजर रखने को कहा गया।

-पीस पार्टी के विधायक अनीसुर्रहमान, अखिलेश सिंह और कमाल यूसुफ भी शिवपाल से मिले।

-बुधवार को गैर हाजिर रहे विधायक गुरुवार को मुलायम सिंह से मिले।

-आरएलडी विधायक भी सपा के डिनर में शामिल हुए।

बीएसपी में भी विधायकों पर नजर

-बीएसपी भी अपने विधायकों पर नजर रख रही है।

-पार्टी दफ्तर में विधानमंडल दल की बैठक भी हुई।

-अभी तक किसी अन्य दल को मदद का बीएसपी ने एलान नहीं किया है।

-बीएसपी ने 3 प्रत्याशियों को एमएलसी चुनावों में उतारा है।

-चिल्लूपार से विधायक राजेश त्रिपाठी सस्पेंड किए गए, राजेश का कहना है कि उन्होंने खुद इस्तीफा दिया है।

कांग्रेस के विधायक रहे गैर हाजिर

-कांग्रेस विधानमंडल दल की बैठक में आधा दर्जन विधायक नहीं आए।

-वरिष्ठ नेता केएल शर्मा ने विधायकों की बैठक ली।

-विधान परिषद के लिए कांग्रेस के उम्मीदवार हैं दीपक सिंह।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story