Top

केंद्रीय ऊर्जा मंत्रालय ने कहा- बिजली कटौती में यूपी है नंबर वन

Admin

AdminBy Admin

Published on 18 April 2016 5:14 AM GMT

केंद्रीय ऊर्जा मंत्रालय ने कहा- बिजली कटौती में यूपी है नंबर वन
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊः उत्तर प्रदेश में बिजली सप्लाई और मांग दोनों के बीच का अंतर कम होने के बजाय बढ़ता ही जा रहा है। केंद्रीय ऊर्जा मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक यूपी में बिजली आपूर्ति और मांग के बीच का अंतर 12.5 प्रतिशत है जबकि 2011-12 में यह अंतर 11.3 प्रतिशत था। दूसरे राज्यों में यह अंतर लगातार कम हो रहा है।

राज्य बिजली उपभोक्ता परिषद के अध्यक्ष अवधेश कुमार वर्मा ने कहा कि 2011-12 में बिजली की कुल मांग 81,339 मिलियन यूनिट थी जबकि आपूर्ति 72,116 मिलियन यूनिट थी। 2015-16 में मांग 1,06,370 मिलियन यूनिट थी जबकि आपूर्ति 93,052 मिलियन यूनिट थी।

यह भा पढ़े..CM के दावे के उलट 10 दिन से अंधेरे में गांव, विभाग ने काट दी बिजली

प्रदेश में बिजली की मांग औऱ सप्लाई के बीच अंतर का सबसे बड़ा कारण पॉवर प्लांटो की कम संख्या का होना है। नए पॉवर प्लांट के लिए 2009-10 में 9 एमओयू साइन किए गए थे, जिनमें से एक को छोड़कर और कोई भी अभी तक बन नहीं पाया है। इतना ही नहीं नए प्लांट से भी बिजली सप्लाई देर से शुरू हुई। ललितपुर पॉवर प्लांट से 2016 में बिजली मिलना शुरू हुआ है जबकि बारा प्लांट से उत्पादन अब शुरू होगा।

यह भा पढ़े..पियूष गोयल ने कहा-एक वर्ष के अंदर तार मुक्त हो जाएंगी काशी की गलियां

Admin

Admin

Next Story