Top

वाराणसी मेट्रो का DPR 29 को होगा सबमिट, साल के अंत में शुरू होगा काम

Admin

AdminBy Admin

Published on 19 Feb 2016 4:39 PM GMT

वाराणसी मेट्रो का DPR 29 को होगा सबमिट, साल के अंत में शुरू होगा काम
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

वाराणसी: शहर में मेट्रो के कंस्ट्रक्शन को लेकर कवायद जोर पकड़ने लगी है। इस महीने के अंत यानि 29 फ़रवरी को वाराणसी का डीपीआर यूपी सरकार को सौंपा जाएगा । यह जानकारी शुक्रवार को लखनऊ मेट्रो के प्रिंसिपल कंसलटेंट ई श्रीधरन ने दी। इसके बाद यूपी सरकार इस प्रोजेक्ट को मंजूरी के लिए केंद्र सरकार को भेजेगी। श्रीधरन ने बताया कि इन मंजूरियों के बाद इस साल के अंत तक बनारस शहर में मेट्रो कंस्ट्रक्शन का काम शुरू जाएगा।

हिस्टोरिकल होने के कारण चुनौतियां अधिक

श्रीधरन ने वाराणसी मेट्रो के बारे में बात करते हुए newztrack को बताया कि प्राचीन शहर होने के कारण यहां कई धार्मिक स्थल हैं, जिनके चलते वहां ज्यादातर हिस्सों में मेट्रो का एलीवेटेड हिस्सा नहीं बन सकता। इसका एक ही उपाय है कि वहां ज्यादातर मेट्रो रूट को जमीन के नीचे बनाया जाए।

सीवर लाइन से काफी नीचे बनेगा मेट्रो रूट

श्रीधरन ने बताया कि बनारस में अंडरग्राउंड सीवर सिस्टम को कोई नुकसान नहीं पहुंचगा क्योंकि मेट्रो का रूट काफी नीचे होगा। बनारस में सीवर लाइन 5-6 मीटर नीचे है, जबकि मेट्रो का रूट सतह से 15 मीटर नीचे होगा। उन्होंने कहा कि बनारस के लोगों को मेट्रो के अंडरग्राउंड कंस्ट्रक्शन को लेकर किसी बात के चिंता नहीं करनी चाहिए। पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र काशी में वाराणसी मेट्रो का 80 फीसदी हिस्सा अंडरग्राउंड होगा।

दो कॉरिडोर, कुल लंबाई 28 किमी.

वाराणसी में बनने वाले मेट्रो रेल प्रोजेक्ट में दो कॉरिडोर होंगे, जिनकी कुल लंबाई 28 किलोमीटर होगी। पहला कॉरिडोर 19 किलोमीटर लंबा होगा, ये बीएचयू से तरना में बीएचईएल तक जाएगा। दूसरा कॉरिडोर बनिया बाग़ से सारनाथ जाएगा, इसकी लंबाई 9 किलोमीटर होगी।

ऐसे गुजरेगा पहला कॉरिडोर

- बीएचयू गेट के पास से ये कॉरिडोर अंडरग्राउंड होगा और पहला स्टेशन पं. मदन मोहन मालवीय चौक पर बनेगा।

- दूसरा स्टेशन तुलसी मानस मंदिर के पास।

- इसके बाद रत्नाकर पार्क, दुर्गा मंदिर और गोदौलिया चौक पर अंडरग्राउंड स्टेशन होगा।

- इसके बाद बेनिया बाग़ में अंडरग्राउंड स्टेशन बनेगा।

- बेनिया बाग़ में दोनों कॉरिडोर का इंटरसेक्शन होगा।

- बेनिया के बाद मौलवी पार्क में अंडरग्राउंड स्टेशन।

- इसके बाद भारत माता मंदिर और कैंट स्टेशन पर अंडरग्राउंड स्टेशन।

- कैंट के बाद होटल ताज गेटवे, कलेक्ट्रेट और यूपी कॉलेज बस स्टैंड के पास अंडरग्राउंड स्टेशन बनाए जाने का प्रपोजल है।

- इस रूट पर राजराजेश्वरी नगर आखिरी अंडरग्राउंड स्टेशन होगा।

- रैंप के जरिए मेट्रो रूट एलिवेटेड सेक्शन का हो जाएगा।

- इसके बाद श्री संकटहरण हनुमान मंदिर, शिवपुर बाईपास रोड और नवलपुर रोड के चौराहे और तरना बस अड्डे पर एलीवेटेड स्टेशन बनाए जाने का प्रपोजल है।

दूसरे कॉरिडोर का रूट

- दूसरा कॉरिडोर बेनिया बाग से मैदागिन की ओर बढ़कर सारनाथ तक बनेगा।

- इस कॉरिडोर की लंबाई 9 किलोमीटर होगी।

- मैदागिन की तरफ बढ़ने पर गांधी मैदान, मछोदरी पार्क और काशी बस अड्डे पर अंडरग्राउंड स्टेशन बनाए जाने का प्रपोजल है।

- जलालीपुर स्टेशन पर अंडरग्राउंड स्टेशन के बाद यह कॉरिडोर रैंप के जरिए एलीवेटेड हो जाएगा।

- सारनाथ स्टेशन तक पहुंचने में पंचकोशी मार्ग और एनएच-29 आशापुर, रिशपट्टन मार्ग और मवइया स्टेशन एलीवेटेड बनाए जाने का प्रपोजल है।

Admin

Admin

Next Story