×

मूर्ति चोरी के विरोध में सड़क पर उतरे ग्रामीण, हाइवे किया जाम

सूचना पाकर एसडीएम सिद्धार्थ यादव तहसीलदार राजेश कुमार वर्मा सीओ सहकर प्रसाद एसओ हरदी राजेश सिंह, रामगांव ब्रम्हानंद सिंह, बौंडी आरपी यादव समेत आसपास के थानों की पुलिस मौके पर पहुंची। अधिकारियों के मान मनौव्वल के बाद ग्रामीण शांत हुए।

Shivakant Shukla

Shivakant ShuklaBy Shivakant Shukla

Published on 4 Feb 2019 9:55 AM GMT

मूर्ति चोरी के विरोध में सड़क पर उतरे ग्रामीण, हाइवे किया जाम
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

बहराइच: हरदी थाना क्षेत्र के रमपुरवा गांव स्थित प्राचीन रामजानकी ठाकुरद्वारा मंदिर का दरवाजा तोड़कर चोरी गई मूर्तियों के खुलासा न होने पर आक्रोशित ग्रामीण सड़क पर उतर आए। रमपुरवा चौराहा स्थित बहराइच-सीतापुर हाइवे पर जाम लगा दिया। तकरीबन दो घंटे तक आवागमन बाधित रहा। मौके पर पहुंचे अधिकारियों के घटना के खुलासे के बाद ग्रामीणों का गुस्सा शांत हुआ।

ये भी पढ़ें— शर्मनाक: बेटी के जन्म पर मां ने ठुकराया, नहर में मिला शव

शनिवार की रात चोर रमपुरवा गांव स्थित 250 वर्ष पुराने रामजानकी मंदिर का दरवाजा तोड़कर उसमें रखी ढाई फीट ऊंची 90 किलो वजनी लक्ष्मण, सीता व हनुमान जी की करोड़ों की अष्टधातु की मूर्ति उठा ले गए। फोरेंसिक टीम के साथ पुलिस ने जांच-पड़ताल की पर कोई सुराग हाथ नहीं लगा।

खुलासा न होने से गुस्साए ग्रामीणों ने सोमवार को बहराइच-सीतापुर मार्ग जाम कर दिया। दोनों ओर गाड़ियों की लंबी कतारें लग गईं। तकरीबन दो घंटे तक आवागमन बाधित रहा। ग्रामीण जल्द मूर्ति चोरी की घटना के खुलासे की मांग कर थे।

ये भी पढ़ें—गडकरी बोले- जो घर नहीं संभाल सकता, देश क्या संभालेगा

सूचना पाकर एसडीएम सिद्धार्थ यादव तहसीलदार राजेश कुमार वर्मा सीओ सहकर प्रसाद एसओ हरदी राजेश सिंह, रामगांव ब्रम्हानंद सिंह, बौंडी आरपी यादव समेत आसपास के थानों की पुलिस मौके पर पहुंची। अधिकारियों के मान मनौव्वल के बाद ग्रामीण शांत हुए। इसके बाद हाइवे पर लगा जाम हटवाया गया। एसडीएम व सीओ ने ने ग्रामीणों को बताया कि पुलिस लगातार घटना से जुड़े पहलुओं को खंगाल रही है। जल्द ही खुलासा किया जाएगा।

ये भी पढ़ें— बंगाल विवाद पर अनिल विज का बयान, ममता कर रही हैं ‘ताड़का’ जैसा काम

Shivakant Shukla

Shivakant Shukla

Next Story