×

रीड टुडे लीड टुमारो फेस्टः तीन घंटे में पढ़ डालीं 102 पुस्तकें, गजब की प्रतिभा दिखी इस प्रतियोगिता में

Sonbhadra News: रीड टुडे लीड टुमारो.. थीम (Read Today Lead Tomorrow) पर आयोजित प्रतियोगिता में यह शर्त रखी गई थी कि विद्यालय अवधि के दौरान जो छात्र-छात्र सबसे ज्यादा किताबें पढ़ेगा, उसे मिस्टर पढ़ाकू और मिस पढ़ाकू के खिताब से नवाजा जाएगा।

Kaushlendra Pandey
Published on 25 Dec 2021 11:29 AM GMT
Read Today Lead Tomorrow Fest: Childrens eagerness to become a student, read 102 books in three hours
X

सोनभद्र: रीड टुडे लीड टुमारो, रीडिंग फेस्ट का आयोजन

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Sonbhadra News: ग्रामीण परिवेश में जहां एक ओर संसाधनों की कमी बुनियादी शिक्षा (Education) की बेहतरी में बड़ी बाधा बनी हुई है वहीं दूसरी ओर बेसिक शिक्षा विभाग (Basic education department) में कार्यरत कई शिक्षक ऐसे हैं जो अपने नवाचारी गतिविधियों से बच्चों को विभिन्न तरीकों से किताबों और पढ़ाई के प्रति दिलचस्पी बढ़ाने के लिए नवाचार करने में लगे हुए हैं।

एक ऐसी ही मुहिम शनिवार को विकासखंड दुद्धी (Block Dudhi) के अमवार कालोनी (Amwar Colony) में सामने आई। बच्चों में किताबों के प्रति दिलचस्पी (children's interest in books) और ज्ञानार्जन को बढ़ावा देने की नियत से 'करो पढ़ाई जीतो पुरस्कार' (Karo Padhai Jeeto Puraskar) मुहिम के तहत रीडिंग फेस्ट का आयोजन (Reading Fest organized) किया।

मिस्टर पढ़ाकू और मिस पढ़ाकू का मिलेगा ख़िताब

रीड टुडे लीड टुमारो.. थीम (Read Today Lead Tomorrow) पर आयोजित प्रतियोगिता में यह शर्त रखी गई थी कि विद्यालय अवधि के दौरान जो छात्र-छात्र सबसे ज्यादा किताबें पढ़ेगा, उसे मिस्टर पढ़ाकू और मिस पढ़ाकू के खिताब से नवाजा जाएगा।


सुबह दस बजे शुरु हुई इस मुहिम में अमवार इलाके के प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालय में अध्ययनरत बच्चों में पढ़ने के लिए किताबों को, पुस्तकालय से निर्गत कराने की होड़ सी मच गई । महज तीन घंटे में 102 से अधिक किताबें पढ़ डाली गईं । प्रतियोगिता की खास बात यह थी कि बच्चे उन किताबों को विद्यालय प्रांगण में कहीं भी और किसी भी तरह से बैठकर, लेटकर पढ़ने के लिए स्वतंत्र थे। इसके बाद तो नजारा कुछ ऐसा बना कि कोई बच्चा घास पर लेटा है तो कोई एकांत में बैठा है।

रीडिंग फेस्ट का दौर दोपहर एक बजे तक चला

सभी बच्चे पुस्तकों में छपे सुंदर चित्र और ज्ञानवर्धक शब्दों को आत्मसात करने में जुटे थे, क्योंकि किताब पढ़ने के बाद उन्हें एक साक्षात्कार भी देना था। साक्षात्कार में उसी पढ़ी गई पुस्तक से निर्णायक मंडल द्वारा अधिकतम पांच सवाल शिक्षकों द्वारा पूछे गए। क्वालीफाइंग मार्क्स न्यूनतम 3 प्रश्नों के उत्तर रखे गए। रीडिंग फेस्ट का दौर दोपहर एक बजे तक चला । निर्णायक मंडल में नीरज चतुर्वेदी, शताक्षी, सतीश और जीत सिंह को शामिल किया गया।


बच्चों का मोबाइल की बजाय पुस्तकों के प्रति लगाव बढ़ाना

मुहिम का उद्देश्य बच्चों का मोबाइल की बजाय पुस्तकों के प्रति लगाव बढ़ाना था। कम्पोजिट विद्यालय अमवार कालोनी के प्रधानाध्यापक नीरज चतुर्वेदी ने बताया कि इस तरह की गतिविधियां आगे भी जारी रहेंगी। प्रदर्शन के आधार पर उच्च प्राथमिक संवर्ग में आशुतोष,राजन को मिस्टर पढ़ाकू, रेखा, रुपा को मिस पढ़ाकू का खिताब दिया गया। वहीं प्राथमिक संवर्ग में सूर्य प्रकाश मिस्टर पढ़ाकू और नेहा ने मिस पढ़ाकू खिताब के लिए बाजी मारी।

taja khabar aaj ki uttar pradesh 2021, ताजा खबर आज की उत्तर प्रदेश 2021

Shashi kant gautam

Shashi kant gautam

Next Story