×

वसीम रिजवी- शिया वक्फ बोर्ड की संपत्ति में हस्तक्षेप न करे सुन्नी बोर्ड

aman

amanBy aman

Published on 30 Nov 2017 4:14 PM GMT

वसीम रिजवी- शिया वक्फ बोर्ड की संपत्ति में हस्तक्षेप न करे सुन्नी बोर्ड
X
वसीम रिजवी- शिया वक्फ बोर्ड की संपत्ति में हस्तक्षेप न करे सुन्नी वक्फ बोर्ड
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: यूपी शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने गुरुवार (30 नवंबर) को कहा, कि 'उत्तर प्रदेश में मंदिर और मस्जिद को लेकर चल रहे विवादों में मुख्य रूप से काशी और मथुरा मस्जिद-मंदिर विवाद सुन्नी वक्फ बोर्ड से संबंधित है, परंतु अयोध्या स्थित राम जन्म भूमि-बाबरी मस्जिद विवाद शिया वक्फ बोर्ड से संबंधित है। सुन्नी वक्फ बोर्ड को शिया वक्फ बोर्ड की संपत्ति में हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए।'

वसीम रिजवी ने आगे कहा, कि 'सुन्नी वक्फ बोर्ड को काशी, मथुरा में स्थित मंदिर-मस्जिद विवाद के झगड़े में अपना पक्ष रखने का अधिकार है, परंतु सुन्नी वक्फ बोर्ड बगैर किसी आधार के अयोध्या में पूर्व स्थित मस्जिद को अपनी मस्जिद बता कर अवैध अधिसूचना को आधार बना कर अपना हक जता रहा है।'

ये भी पढ़ें ...राम मंदिर वहीं बनेगा, मस्जिद अयोध्या के बाहर: वसीम रिज़वी

शिया मस्जिद होने के पर्याप्त साक्ष्य हैं

रिजवी ने अपने बयान में कहा, 'शिया वक्फ बोर्ड के पास अयोध्या में पूर्व स्थित बाबरी मस्जिद के शिया मस्जिद होने के पर्याप्त साक्ष्य हैं, जिसे शिया वक्फ बोर्ड की तरफ से हाईकोर्ट में पेश किया जा चुका है। शिया वक्फ बोर्ड द्वारा अपनी वक्फ संपत्ति को अपना कह देने के कारण और हाईकोर्ट में इससे संबंधित अपना पक्ष रख देने के कारण कुछ मुस्लिम कट्टरपंथी संगठन एवं कुछ तथाकथित मुल्ला व मौलवी शिया वक्फ बोर्ड द्वारा राष्ट्र हित में की गई वैधानिक पहल के कारण मुझसे नाराज हैं। सूत्रों के माध्यम से मुझको धमकाकर यह दबाव बनाने की कोशिश की जा रही है कि शिया वक्फ बोर्ड इस प्रकरण में अपना पक्ष वापस ले, अन्यथा मुझे जान से मार दिया जाएगा।'

ये भी पढ़ें ...वसीम रिजवी बोले- मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड कराना चाहता है फसाद

यह कदम राष्ट्र के हित में उठाया गया है

रिजवी ने कहा, 'शिया वक्फ बोर्ड ऐसे कट्टरपंथियों को यह स्पष्ट कर देना चाहता है कि शिया वक्फ बोर्ड द्वारा

यह उचित कदम है। शिया वक्फ बोर्ड ने अपना पक्ष पूर्ण रूप से उच्चतम न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत कर दिया है। उच्चतम न्यायालय का निर्णय प्रकरण में अंतिम निर्णय होगा, जिसे सभी पक्षों को स्वीकार करना होगा।'

ये भी पढ़ें ...वक्फ बोर्ड पर बोले वसीम रिजवी- करवा लें CBI जांच, फसेंगे योगी के मंत्री ही

हिंदू भाईयों की आस्था के अनुसार बने मंदिर

रिजवी ने कहा, 'कोर्ट द्वारा साक्ष्यों के आधार पर अगर शिया वक्फ बोर्ड के पक्ष में फैसला आता है तो अयोध्या में हिंदू भाईयों की आस्था के अनुसार राम मंदिर बनना चाहिए और मुसलमानों के लिए शिया वक्फ बोर्ड ने लखनऊ स्थित जो भूमि 'मस्जिद-ए-अमन' के लिए चिह्नित की है उस पर एक मस्जिद का निर्माण शिया वक्फ बोर्ड करा लेगा।'

शियों की संपत्ति पर अधिकार छोड़ें सुन्नी

उन्होंने कहा, कि 'सुन्नी वक्फ बोर्ड को चाहिए कि वे शियों की संपत्ति पर अपना अधिकार छोड़कर काशी, मथुरा स्थित मंदिर-मस्जिद विवाद को शांतिपूर्वक हल करने की दिशा में सकारात्मक भूमिका निभाने की कोशिश करें।'

ये भी पढ़ें ...श्री श्री से मिले रिजवी- कहा- शैतान रूपी मुल्ले कराना चाहते है खून-खराबा

आईएएनएस

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story