Top

मंत्री जी को याद आई अंग्रेजी हुकूमत, धोती-कुर्ता पहनकर जा रहे थे क्‍लब, दरबान ने रोका

By

Published on 20 Aug 2016 6:54 AM GMT

मंत्री जी को याद आई अंग्रेजी हुकूमत, धोती-कुर्ता पहनकर जा रहे थे क्‍लब, दरबान ने रोका
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

आगरा: धोती-कुर्ता को भारतीय संस्कृति का परिधान माना जाता है। शुक्रवार रात आगरा क्लब में यही परिधान पहनकर पहुंचे प्रदेश के पूर्व मंत्री एवं कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता डॉ. कृष्णवीर सिंह कौशल को अंदर जाने से रोक दिया गया। मंत्री जी ने लाखा कोशिशे की लेकिन उन्‍हें अंदर नहीं जाने दिया गया। इस अपमान से पूर्व मंत्री गुस्‍सा गए और उन्‍होंने मामले की रक्षा मंत्री से शिकायत करने की बात कही। मंत्री जी ने कहा कि ऐसे फरमान आजाद भारत की जगह अंग्रेजी हुकूमत की गुलामी की याद दिलाते हैं।

सचिव ने किया प्रवेश देने से इंकार

-आगरा क्लब में शुक्रवार को इंजीनियर आरके सिंह राघव की सेवानिवृत्ति के मौके पर पार्टी थी।

-इसमें पूर्व मंत्री कृष्णवीर सिंह को भी आमंत्रित किया था। पूर्व मंत्री ने बताया कि वह रात 10ः15 बजे आगरा क्लब पहुंचे।

-उन्‍हें रिसेप्शन पर ही रोक दिया गया। मंत्री ने इसका कारण पूछा तो बताया गया कि धोती कुर्ता पहने होने की वजह से उन्हें प्रवेश नहीं मिल सकता।

-अंदर जाने के लिए उन्हें क्लब के ड्रेस कोड का पालन करना होगा।

-पूर्व मंत्री का कहना है कि उन्होंने काफी समझाने का प्रयास किया कि वो धोती-कुर्ता ही पहनते हैं।

-इस पर उनकी बात क्लब के सचिव कर्नल ई मैकेरियस से कराई गई। उन्होंने कर्नल के समक्ष अपनी बात रखी।

-मंत्री के अनुसार सचिव ने बिना ड्रेस कोड के प्रवेश देने से इंकार कर दिया।

क्या कहना है पूर्व मंत्री का

-पूर्व मंत्री का कहना है कि उन्होंने उनसे पूछा कि अगर कोई मंत्री या सांसद कुर्ता-पजामा पहनकर आएगा तो क्या उसे भी प्रवेश नहीं मिलेगा।

-इस पर उन्हें नहीं में ही जवाब मिला। डॉ. कौशल का कहना है कि वो इसकी शिकायत रक्षामंत्री से करेंगे।

क्या कहना है क्लब के सचिव का

-इस संबंध में क्लब के सचिव कर्नल ई मैकेरियस का कहना है कि क्लब का ड्रेस कोड है।

-पूर्व मंत्री ड्रेस कोड के तहत नहीं आए थे, इसीलिए उन्हें प्रवेश नहीं दिया गया।

Next Story