Top

पश्चिमी यूपी में जारी है पलायन, अब बिजनौर में लगे मकान बिकाऊ के बोर्ड

दबंगो के डर से लोगों ने पलायन शुरू कर दिया है। पुलिस प्रशासन की लापरवाही के चलते आधा दर्जन परिवार पलायन कर चुके हैं। पीड़ितों के मुताबिक दबंगो के डर से उनके बच्चे भी स्कूल नहीं जा पा रहे हैं और उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। गांव वालों ने पुलिस-प्रशासन पर सत्ता के दबाव में काम करने का आरोप लगाया है।

zafar

zafarBy zafar

Published on 19 Aug 2016 1:59 PM GMT

पश्चिमी यूपी में जारी है पलायन, अब बिजनौर में लगे मकान बिकाऊ के बोर्ड
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बिजनौर: पहले कैराना, फिर बुलंदशहर और उसके बाद अलीगढ़ में सामुदायिक पलायन के बाद अब बिजनौर में भी उत्पीड़न से तंग एक वर्ग ने अपने घर बेच कर पलायन शुरू कर दिया है। यहां हर दूसरे घर पर 'मकान बिकाऊ है' का बोर्ड लग गया है। कई परिवार गांव से पलायन कर चुके हैं। प्रशासन कार्रवाई से कतरा रहा है, तो बीजेपी नेता इसे लेकर प्रदेश सरकार को घेरने की तैयारी में हैं।

दो पक्षों में विवाद

-जिले के नहटौर थाना इलाके के ढिकौली गांव में 15 अगस्त को ग्राम देवता की जमीन की सफाई को लेकर दो पक्षों में विवाद हो गया।

-एक पक्ष के लोगों को दूसरे समूह ने बुरी तरह मारा पीटा। इसके बाद से ही गांव में तनाव बना हुआ है।

-पीड़ित सोमपाल सिंह जब शिकायत करने नहटौर थाने पहुंचे, तो एसओ ने उलटा पीड़ित को ही थाने में बंद कर दिया।

-इस गांव में हिन्दुओं के 21 परिवार रहते हैं जबकि मुस्लिमों के लगभग 250 परिवार हैं।

प्रशासन पर आरोप

-दबंगो के डर से लोगों ने पलायन शुरू कर दिया है। पुलिस प्रशासन की लापरवाही के चलते आधा दर्जन परिवार पलायन कर चुके हैं।

-पीड़ितों के मुताबिक दबंगो के डर से उनके बच्चे भी स्कूल नहीं जा पा रहे हैं और उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही है।

-गांव वालों ने पुलिस-प्रशासन पर सत्ता के दबाव में काम करने का आरोप लगाया है।

-इस मामले में पुलिस कैमरे पर कुछ भी बोलने से इनकार कर रही है।

zafar

zafar

Next Story