Top

मास्क नहीं पहना तो नहीं कर सकेंगे बस, ऑटो और टैक्सी में यात्रा

प्रदेश में कोरोना के बिगड़ते हालात को देखते हुए आज सुबह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों के साथ एक बैठक कर कहा कि कोरोना से जंग में मास्क एक महत्वपूर्ण टूल है, इसलिए लोगों को अनिवार्य रूप से मास्क पहनने के लिए कहा जाए।

Monika

Monikapublised by- Monika

Published on 4 April 2021 12:32 PM GMT

मास्क नहीं पहना तो नहीं कर सकेंगे बस, ऑटो और टैक्सी में यात्रा
X

मास्क न पहनने पर यात्रा नहीं (फाइल फोटो )  

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: प्रदेश में कोरोना के बिगड़ते हालात को देखते हुए आज सुबह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों के साथ एक बैठक कर कहा कि कोरोना से जंग में मास्क एक महत्वपूर्ण टूल है, इसलिए लोगों को अनिवार्य रूप से मास्क पहनने के लिए कहा जाए। उन्होंने कहा कि दुकानदार मास्क पहनकर ही अपनी दुकान पर बैठे। इसी प्रकार ऑटो , टैक्सी तथा बस ड्राइवर भी अनिवार्य रूप से मास्क पहनें। ऑटो , टैक्सी तथा बस का प्रयोग उन्हीं यात्रियों को करने दिया जाए, जिन्होंने मास्क पहना हो।

टीकाकरण के लक्ष्य को पूरा किया जाए

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि टीकाकरण होने से काफी हद तक कोरोना संक्रमण के प्रभाव से लोगों को बचाया जा सकेगा। सभी जनपदों में प्रत्येक दिन के लिए निर्धारित टीकाकरण के लक्ष्य को हर हाल में पूरा किया जाए। उन्होंने कहा कि कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम, बचाव, उपचार तथा टीकाकरण की जानकारी ली और कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में सरकारी अधिकारियों के साथ-साथ युवक मंगल दल, चैकीदार इत्यादि को निगरानी समिति में शामिल किया जाए। इसी प्रकार शहरी क्षेत्रों में सिविल डिफेन्स तथा स्वैच्छिक संगठनों को निगरानी समितियों में सम्मिलित किया जाए। निगरानी कार्य में जनप्रतिनिधियों की भी सहायता ली जाए।

अन्य राज्यों से यूपी आने वाले यात्रियों की माॅनीटरिंग

योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों से कहा कि निगरानी समितियां अन्य राज्यों से उत्तर प्रदेश पहुंचने वाले यात्रियों की माॅनीटरिंग करें। साथ ही, वे ऐसे अन्य व्यक्तियों की भी निगरानी करें, जिनमें कोविड-19 के लक्षण मौजूद हों। उन्होंने कहा कि कोरोना मामलों की मैपिंग कर रणनीतिक निगरानी से ऐसे मामलों का शीघ्र पता चल सकेगा और मरीज को आइसोलेट किया जा सकेगा। किसी भी संक्रमित व्यक्ति से सम्बन्धित 25 लोगों की टेस्टिंग की जाए, इससे कोरोना के प्रसार को रोकने में काफी मदद मिलेगी। निगरानी समितियों के माध्यम से सामुदायिक निगरानी करके कोरोना संक्रमण को फैलने से रोका जा सकता है। उन्होंने आरटीपीसीआर टेस्टिंग की संख्या बढ़ाने तथा स्ट्रैटजिक सैम्पलिंग के माध्यम से आरटीपीसीआर के सैम्पल भेजने के भी निर्देश दिये।

डाॅक्टर-पैरामेडिकल स्टाफ की निरन्तर उपलब्धता

योगी ने कहा कि कोरोना संक्रमण की कोविड अस्पतालों में पर्याप्त संख्या में बेड्स की व्यवस्था की जाए। साथ ही, इन अस्पतालों में डाॅक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ की निरन्तर उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। इन अस्पतालों में आक्सीजन , वेण्टीलेटर्स तथा दवाइयों की भी आवश्यकतानुसार उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। कोविड अस्पतालों में वरिष्ठ डाॅक्टर्स निरन्तर राउण्ड लें।मुख्यमंत्री ने सभी जनपदों में इण्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ट कण्ट्रोल सेन्टर्स को प्रभावी बनाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि सभी जिलाधिकारी, वरिष्ठ पुसिल अधीक्षकों एंव पुलिस अधीक्षक तथा मुख्य चिकित्सा अधिकारी प्रतिदिन सुबह कोविड चिकित्सालय में तथा शाम को इण्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कण्ट्रोल सेन्टर में बैठक कर स्थिति की समीक्षा करें तथा आगे की रणनीति बनाएं।मुख्यमंत्री जी ने कहा कि कोरोना से संक्रमित जिन व्यक्तियों को होम आइसोलेशन में रखा गया है, उन्हें लगातार माॅनीटर किया जाए और आवश्यकता पड़ने पर उन्हें तुरन्त अस्पताल में भर्ती कराया जाए। होम आइसोलेशन में रखे गये मरीजों को दवाइयां तथा अन्य उपचार उपलब्ध कराया जाए। पूर्व निर्धारित प्रोटोकाॅल के अनुसार रैपिड रिस्पांस टीमों का गठन कर लिया जाए और वे होम आइसोलेशन में रखे गये मरीज के घर दिन में तीन बार विजिट करना सुनिश्चित करें। कोरोना संक्रमितों का फौरन पता लगाकर उन्हें आइसोलेट करने से संक्रमण को रोकने में काफी मदद मिलेगी।

रिपोर्ट - श्रीधर अग्निहोत्री

Monika

Monika

Next Story