Top

CM-11Vs IAS-11: कमेंटेटरों ने की नेताओं और अफसरों की जमकर खिंचाई

Admin

AdminBy Admin

Published on 20 March 2016 10:53 AM GMT

CM-11Vs IAS-11: कमेंटेटरों ने की नेताओं और अफसरों की जमकर खिंचाई
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: लामार्टिनियर के ग्राउंड में एक तरफ सीएम-11 और आईएएस-11 के बीच मैच चल रहा था। वहीँ मैदान के दोनों छोर से धुआंधार कमेंट्री की जा रही थी। मैदान पर दोनों टीमें अपना ‘गेम’ दिखा रही थी तो ग्राउंड के दोनों तरफ बैठे कमेंटेटर दर्शकों के समक्ष ‘ट्रू-गेम’ की प्रस्तुति में कोई कसर नहीं छोड़ रहे थे। एक छोर से कमेंट्री की कमान रेडियो जॉकी और सपा नेता नावेद सिद्दीकी ने संभाल रखी थी तो दूसरी ओर से आईएएस एसपी गोयल और आईएएस अनुराग यादव की पत्नी प्रीति ने।

मैदान के दोनों छोर से कमेंटेटरों की गुगली, छक्का भी जड़ा

मैदान के दोनों छोरों से कमेंट्री हो रही थी। इस पर नावेद ने दोनों तरफ से एक-एक ओवर कमेंट्री किए जाने का सुझाव दिया। एसपी गोयल ने दिलचस्प जवाब देते हुए कहा कि आपके सुझाव पर विचार किया जाएगा। मुख्य सचिव ने समिति बना दी है। कृषि उत्पादन आयुक्त इसकी जांच कर रहे हैं। निर्णय आने पर आपको अवगत करा दिया जाएगा।

-मैच के बीच-बीच में भी गोयल बताते रहें कि अभी एपीसी की जांच रिपोर्ट आई नहीं है।

यह भी पढ़ें...

पोलिटिकल पारी के साथ क्रिकेट के मैदान में भी सीएम ने जड़े चौके, छक्के

कमेंट्री यश भारती पाने के लिए नहीं किया जा रहा

नावेद ने कहा कि मीडिया वाले फोटो खींचते हैं पर उसे छापते नहीं है। इस पर दूसरे कमेंटेटर प्रीति ने कहा कि फोटो छपने से इमेज नहीं बनती है बल्कि काम करने से बनती है। उन्होंने कहा कि कमेंट्री यश भारती पाने के लिए नहीं, खिलाड़ियों का जोश बढ़ाने के लिए की जा रही है। इस पर नावेद ने कहा कि आप हर बात दिल पर क्यों ले लेती हैं तो प्रीति ने कहा कि बात हम दिल पर नहीं दिमाग पर लेते हैं।

कमेंट्री करते आईएएस अधिकारी कमेंट्री करते आईएएस अधिकारी

...सहगल साहब से पाप न करवाओ

कमेंटेटरों ने नवनीत सहगल की खूब चुटकी ली। जब उनकी गेंद पर सीएम-11 ने छक्का जड़ा तो कहा गया कि सहगल साहब के खाते में काफी पुण्य जमा हो गए हैं, थोड़ा सा पाप कर दें तो कुछ नहीं होगा। उनका मतलब था कि वह थोड़ी अच्छी बालिंग करें। इस पर दूसरी तरफ से कहा गया कि सहगल साहब से पाप न करवाइए, मीडिया वाले बैठे हैं, अभी चैनलों पर पट्टी चल जाएगी।

यह भी पढ़ें...

बैट-बॉल में बिजी थे CM साहब, पैरों में आकर लेटी बेबस मां-लाचार बाप

ये हैं कुछ लाजवाब एक्सपर्ट कमेंट

-डीजीपी जावीद अहमद ने कहा कि 26-27 साल से आईपीएस से आईएएस मैच हारते रहते हैं।

-राकेश बहादुर सिंह ने कहा कि मैं बीसीसीआई का आब्जर्वर हूं, देख रहा हूं, जो लोग अच्छा नहीं खेल रहे हैं, उन्हें दोबारा खेलने का मौका दिया जाएगा।

-डीजीपी ने कहा कि हार की जांच सीबीआई को रिफर न किया जाए। जांच सीबीआई में जाएगी तो जो हारेगा, उसी को झेला दिया जाएगा।

-चीफ सेक्रेटरी आलोक रंजन को कहा जा रहा था कि वह आईएएस-11 की टीम के पैवेलियन की तरफ न जाएं। इससे खेल प्रभावित हो सकता है। इस पर उन्होंने कहा कि अफसर सीधे शासनादेश नहीं मान रहे थे तो मैं ही सीधे मौके पर पहुंच गया।

मैच फिक्स है, पिछले तीन मैच भी फिक्स थे

मैच चल ही रहा था कि तभी आवाज आई, न्यूज आ रही है कि ये मैच फिक्स है और पिछले तीन मैच भी फिक्स थे। इस पर कहा गया कि यह ग्रांउड सीएम आवास के बगल में है, इसलिए आईएएस अफसर हारते रहते हैं। अब सीएम साहब से कहा जाएगा कि मैच केडी सिंह बाबू स्टेडियम या कहीं और कराया जाए।

सीएम के प्रदर्शन से शेयर बाजार में उछाल, यूपी में निवेश बढेगा

जब सीएम इलेवन की टीम जीत की तरफ बढ रही थी तो उसी समय कमेंट्री से आवाज आई कि सीएम इलेवन के प्रदर्शन से मुंबई शेयर बाजार में उछाल आ गया है। इससे यूपी में निवेश बढ़ेगा।

यूपी के आईएएस में फूट डालने को केंद्र ने भेजा है एक अधिकारी

एसपी गोयल केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर हैं। उनकी चुटीली कमेंट्री लोगों को लुभा रही थी। इसी बीच कमेंट्री बाक्स से आवाज आई। यूपी के आईएएस अफसरों में फूट डालने के लिए केंद्र ने एक अफसर भेजा है, लेकिन यूपी के अफसर उनकी बात में नहीं आएंगे। उनकी दाल यहां गलने वाली नहीं है। कहा गया कि गोयल साहब आपकी दृष्टि आंगन के तुलसी तक ही सीमित हो रही है।

मैच में हारने के बाद कई दिन तक खुश रहते हैं आईएएस

कमेंट्री बाक्स से कहा गया कि मैच में हारने के बाद भी आईएएस अफसर कई दिन तक खुश रहते हैं और अधिकारियों के बीच में इसकी चर्चा करते हैं कि वह किस तरह से हारें। इसके लिए उन्होंने क्या तरीका अपनाया। किसी ने कैच छोड़ दिया तो वह किताब लिख रहा है कि किस तरह से कैच छोड़ने के बाद वह दो दिन तक सो नहीं सके।

कमेंट्री से आवाज आते ही अम्पायर ने दिया नो बाल

कमेंटेटर एसपी गोयल ने चुटकी लेते हुए कहा कि अम्पायर नो बाल और व्हाइट बाल नहीं दे रहे हैं तो दूसरी तरफ के कमेंट्री बाक्स से आवाज आई कि अम्पायर पर दबाव मत बनाओ और उसके तुरंत बाद अगली बाल को अम्पायर ने नो बाल घोषित कर दिया। इस पर ठहाके गूंज उठे।

Admin

Admin

Next Story