मेरठ से लगभग 25 बसों से विभिन प्रदेशों व जनपदों के श्रमिक हुए रवाना

जो भी रोड पर चल रहे श्रमिकों से सभी को मेरी यही अपील है कि जो जहा है वही रहे है और सभी थानों को हमारा निर्देश है हमारे जिला प्रशासन का निर्देश है कि उनके आसपास के जो हमने सेल्टर होम निश्चित किये है वो वही रहें। इसके अलावा जो हमारे और भी शेल्टर होम है जहां पर अगर कोई आदमी चलता हुआ पाया जाता है तो हम उनको वहां पर रोक लेते हैं

सादिक़ खान (मेरठ)

उत्तरप्रदेश सरकार लॉकडाउन के चलते फंसे हुये प्रवासी श्रमिको को उनके घर तक पहुंचाने के लिये कमर कस चुकी है। प्रवासी मजदूरों व श्रमिकों को उनके गंतव्य स्थान तक पहुंचाने के निर्णय पर जनपद स्तर पर भी युद्ध स्तर पर प्रयास किए जा रहे हैं। प्रवासी श्रमिकों व मजदूरों को उनके गंतव्य स्थान तक पहुंचाने के लिए जिला प्रशासन पूरी तरह से जुटा हुआ है

कहा जाता है कि एक अच्छी व लोकप्रिय सरकार वही होती है जो आमजन की पीड़ा को अपनी पीड़ा समझे तथा उनके लिए कार्य करें, इसकी बानगी तब देखने को मिली जब उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के निर्देश पर मेरठ से प्रवासी श्रमिकों को बस द्वारा उनके स्थान तक पहुचाया जा रहा है।

अपर जिलाधिकारी वित्त से बातचीत

News Track संवाददाता सादिक़ खान से Exclusive बातचीत करते हुए (ADM -F) अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व सुभाष चंद्र प्रजापति ने बताया कि मेरठ के नेशनल हाइवे पर बने सेंटर से विभिन्न प्रदेश व जनपदों के श्रमिकों को बस से रवाना किया गया है। इससे पूर्व बसों के माध्यम से भी हजारों श्रमिकों को उनके गंतव्य स्थान के लिए पूर्व के दिनों में रवाना किया जा चुका है।

वहीं आज मेरठ के नेशनल हाइवे से अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व सुभाष चंद्र प्रजापति के द्वारा बताया कि आज लगभग टारगेट हमारा 25 बसें रवाना करने का है और हम 25 बसे रवाना कर देंगे जो भी यहां कोई भी श्रमिक शाम तक यहां आ जाता है उनके शेष नही छोड़ते है अगले दिन के लिए हम लोग कंट्रोल रूम से अगर कोई सूचना आती है तो हम उनको बुलाकर उन सभी को अगले दिन रवाना कर देते हैं , हमने जो है बिहार के लोग भेजे गए हैं अभी और इसके अलावा उत्तराखंड के जो है श्रमिक है वो भी रवाना किये गए है।

श्रमिकों के लिए खाने व पानी की व्यवस्था

इसके अलावा यूपी के विभिन्न जो जिले हैं उनके श्रमिक भी हैं जिसके साथ शादी एमपी के जो है लगभग यहां पर 150 लोग हैं इनको भी रवाना किया जा रहा है, साथ ही उन्होंने कहा की जिला प्रशासन की तरफ से जो है हम लोगों ने जो व्यवस्था की है, उनके खाने के लिए पानी के लिए व्यवस्था कर रखी है। हमारे सेक्टर मजिस्ट्रेट तैनात हैं सभी गाड़ियों में जो है पहले तो उनको खाना पहले ही दे दिया जाता है जैसे पहुंचते हैं।

फिर उसके बाद जब गाड़ी में बैठ जाते हैं तो उनको ड्राइ पैकेट है, हमारे पास और पानी की बोतलें हैं उनको सभी को गाड़ी चलते वक्त दे दिया जाता है और इसके अलावा गाड़ी में जो है हम लोग ड्राइव पैकेट और पानी की बोतलें रखवा देते हैं। अगर बीच में उन्हें जरूरत पड़ती है तो सम्बन्धित कंडक्टर से वो मांग सकते हैं।

न्यूजट्रैक के माध्यम से अपील

न्यूज़ ट्रेक के माध्यम से एडीएम एफ ने अपील करते हुए कहा की जो भी रोड पर चल रहे श्रमिकों से सभी को मेरी यही अपील है कि जो जहा है वही रहे है और सभी थानों को हमारा निर्देश है हमारे जिला प्रशासन का निर्देश है कि उनके आसपास के जो हमने सेल्टर होम निश्चित किये है वो वही रहें। इसके अलावा जो हमारे और भी शेल्टर होम है जहां पर अगर कोई आदमी चलता हुआ पाया जाता है तो हम उनको वहां पर रोक लेते हैं और रात में उनके खाने-पीने की व्यवस्था भी है वहां पर रुकते हैं और अगले दिन वह सूची हमें मिलती है उसके बाद हम बसों से उन्हें रवाना कर देते हैं।