Top

किसानों को सरकार का बड़ा तोहफा, लाने जा रही ये योजना, जानिए इसके बारे में

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सरकार गठन के बाद ही उन जरूरी आवश्यकताओं को पूरा करने का काम किया जो जीवन के लिए जरूरी होतीं हैं।

Aradhya Tripathi

Aradhya TripathiBy Aradhya Tripathi

Published on 18 March 2020 3:48 PM GMT

किसानों को सरकार का बड़ा तोहफा, लाने जा रही ये योजना, जानिए इसके बारे में
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सरकार गठन के बाद ही उन जरूरी आवश्यकताओं को पूरा करने का काम किया जो जीवन के लिए जरूरी होतीं हैं। समाज के लिए सबसे महत्वपूर्ण कहे जाने वाले किसानों को सिंचाई व्यवस्था में कोई दिक्कत न हो इसलिए मुख्यमंत्री ने अपने तीन साल के कार्यकाल में सिंचाई योजनाओं पर फोकस करते हुए ऐसी व्यवस्था बनाई कि आगामी तीन दशकों तक सिंचाई के मामले में किसानों को किसी भी तरह की दिक्कत का सामना नहीं करना पडे़गा।

20 लाख हेक्टेयर बढ़ेगी सिंचाई क्षमता

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सरयू नहर अर्जुन सहायक और मध्य गंगा नहर परियोजना को पूरा कराने का बीड़ा उठाया है। सिंचाई के क्षेत्र में योगी सरकार बाणसागर परियोजना को पूरा कराने के साथ ही सरयू नहर राष्ट्रीय परियोजना, मध्य गंगा परियोजना, अर्जुन सहायक परियोजना जैसी लगभग एक दर्जन परियोजनाओं पर काम कर रही है।

ये भी पढ़ें- कोरोना: सफदरगंज हॉस्पिटल ने लगाई ऑपरेशन पर रोक, एम्स ने की लोगों से ये अपील

सरकार का दावा है कि इन योजनाओं के पूरे हो जाने पर 20 लाख हेक्टेयर सिंचन क्षमता बढ़ेगी। राज्य सरकार का यह भी दावा है कि उसकी तीन साल पुरानी सरकार में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना से एक करोड़ 87 लाख से अधिक किसान लाभान्वित हो चुके हैं।

सरकार का लक्ष्य 18 लाख भूमि को सिंचित करने का

योगी सरकार चाहती है कि 2020-21 में करीब 18 लाख अतिरिक्त हेक्टेयर भूमि को सिंचित करने का काम किया जाना चाहिए। इससे करीब 50 लाख किसानों को लाभ होगा। इससे करीब तीन दर्जन जिलों के किसानों को लाभ होने जा रहा है। इनमें बुंदेलखण्ड भी शामिल है।

ये भी पढ़ें- दिल्ली हाईकोर्ट ने निर्भया के दोषी मुकेश की याचिका को किया खारिज

इन क्षेत्रों को सिंचित करने वाली नहरें हैं सरयू नहर, अर्जुन सहायक, मध्य गंगा नहर, उप्र वाटर सेक्टर रीस्ट्रक्चरिंग और बुंदेलखण्ड को फोकस करते हुए भावनी बांध रसिन लखेरी एंव बंडई बांध परियोजनाओं को शामिल किया गया हे।

Aradhya Tripathi

Aradhya Tripathi

Next Story