Top

हर एक कोरोना पीड़ित के प्रति हमारी संवेदना होनी चाहिए: CM योगी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि एक-एक व्यक्ति का जीवन अमूल्य है। इस समय मानवीय संवेदना सबसे महत्वपूर्ण है।

Shreedhar Agnihotri

Shreedhar AgnihotriWritten By Shreedhar AgnihotriShwetaPublished By Shweta

Published on 13 May 2021 5:05 PM GMT

योगी
X

योगी (फाइल फोटोः सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊः मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने कहा कि एक-एक व्यक्ति का जीवन अमूल्य है। इस समय मानवीय संवेदना सबसे महत्वपूर्ण है। हर एक पीड़ित के प्रति हमारी संवेदना होनी चाहिए और उसको हम संवेदनशील तरीके से बचाने का कार्य कर सकें, यह आज की सबसे बड़ी आवश्यकता है। प्रदेश में आक्सीजन की सुचारु आपूर्ति के लिए पूरी व्यवस्था की जा रही है।

आज अपने अलीगढ दौरे के दौरान योगी ने कहा कि सामान्य दिनों में प्रदेश में 300 मीट्रिक टन की आक्सीजन की खपत होती थी। लेकिन कोरोना की सेकेण्ड वेब के दौरान यह बढ़कर 1,000 मीट्रिक टन से ज्यादा हो गयी। भारतीय वायु सेना के विमानों और भारतीय रेल की आक्सीजन एक्सप्रेस के माध्यम से प्रदेश में आक्सीजन की आपूर्ति की जा रही है। योगी ने कहा कि प्रदेश में आक्सीजन की सुचारु उपलब्धता के लिए प्रधानमंत्री केयर फण्ड से राज्य को 161 आक्सीजन प्लाण्ट लगाने की सहमति मिली है। इस पर कार्य प्रारम्भ हो चुका है। राज्य सरकार भी अपने संसाधनों से स्वास्थ्य, गन्ना, चिकित्सा शिक्षा, एमएसएमई आदि विभागों तथा सीएसआर के माध्यम से आक्सीजन प्लाण्ट स्थापित करा रही है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अलीगढ़ में आक्सीजन कंसन्ट्रेटर के निर्माण की कार्यवाही प्रारम्भ हो रही है। इसका ट्रायल चल रहा है। ट्राॅयल होने के बाद अलीगढ़ में इस कार्य को हम आगे बढ़ा सकते हैं। अलीगढ़ मण्डल में 161 वेंटिलेटर उपलब्ध हैं, जो फंक्शनल हैं। इसके अलावा, मण्डल में 246 आक्सीजन कंसन्ट्रेटर भी उपलब्ध है। अलीगढ़ मण्डल में 14 नये आक्सीजन प्लाण्ट स्वीकृत किये गये हैं। अब तक जनपद के 18 वर्ष से अधिक आयु के 5,421 लोगों को टीका लगाया जा चुका है।

योगी

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रशासन से कहा गया है कि स्वास्थ्य सेवा की 75 फीसदी तक एम्बुलेंस को कोविड कार्य के लिए लगा सकते हैं। हर जनपद में महिलाओं और बच्चों के लिए डेडिकेटेड हाॅस्पिटल की व्यवस्था की गयी है। नाॅन-कोविड तथा कोविड मरीजों के लिए टेलीकंसल्टेशन की सुविधा तथा हर जनपद में नाॅन-कोविड गम्भीर रोगियों के लिए अलग से उपचार की व्यवस्था भी हर एक जनपद में है। मुख्यमंत्री ने कहा कि एएमयू में मेरा आने का और एक उद्देश्य था। कतिपय मीडिया में खबरें चल रही थी कि कोविड के कारण यहाँ कई लोगों की मृत्यु हुई है। मैंने कल और परसों एएमयू के कुलपति से वार्ता की थी। कुलपति ने बताया कि एएमयू में 16 लोगों की कोविड से मृत्यु हुई।

जिनमें 10 की यहां, चार की अलग-अलग स्थानों पर और 2 की दिल्ली में मृत्यु हुई। लेकिन इसमें सबसे बड़ी बात यह है कि जो पहले चरण में वैक्सीनेशन के कार्यक्रम में लोग वैक्सीन नहीं लगवा पाये थे उस कारण से भी चीजें हुई हैं। लेकिन अब वैक्सीनेशन के कार्यक्रम के साथ सभी जुड़ चुके हैं। योगी ने कहा कि वैक्सीनेशन कार्यक्रम के साथ जुड़ना अपने आप में सुरक्षा कवच प्रदान करता है। यहां पर आक्सीजन की आपूर्ति के लिए उन्होंने डिमाण्ड की थी। राज्य सरकार ने उन्हें आक्सीजन आपूर्ति कल से प्रारम्भ कर दी है। हमने उनको कहा है कि जो भी आवश्यक संसाधन, सुविधाओं की आवश्यकता पड़ेगी, वो एडमिनिस्ट्रेशन, एएमयू प्रशासन, जनप्रतिनिधि मिल करके, इस कार्यक्रम को तेजी के साथ आगे बढ़ाने का कार्य करें।

Shweta

Shweta

Next Story