34 साल से नहीं थी भारतीय नागरिकता! कुछ ऐसी है इस पाकिस्तानी महिला की कहानी

भारतीय नागरिकता मिलने के बाद उनका पूरा परिवार काफी खुश है। वहीं, अब जुबैदा बेगम को दूर-दूर से लोग बधाई देने आ रहे हैं। बता दें, इन 34 सालों में उनका वीजा हर बार बढ़ा दिया जाता था, लेकिन जब भी नागरिकता की बात आती थी तो उसे टाल दिया जाता था।

मुजफ्फरनगर: किसी भी देश में रहने के लिए वहां की नागरिकता जरूरी है वरना आपको देश से निकाल दिया जाएगा। हर देश का कानून और सरकार यही बात कहती है, जबकि उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर से एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसके बारे में जानकर आप भी कहेंगे कि सभी नियम और कानून सिर्फ जनता के लिए ही क्यों है।

Image result for Zubaida Begum indian citizenship

यह भी पढ़ें: मचा हड़कंप! पाकिस्तान से लौटे भारतीय जवान ने सेना पर लगाया गंभीर आरोप

दरअसल 34 साल पहले पाकिस्तान की रहने वाली जुबैदा बेगम (Zubaida Begum) का निकाह उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर के रहने वाले जावेद से हुआ था। निकाह के बाद 21 जून 1984 को जुबैदा भारत आकार पति के साथ बस गईं। मगर अब उनको 34 साल बाद भारतीय नागरिकता मिली है।

यह भी पढ़ें: खतरे में इमरान सरकार: सेना और चरमपंथी कर रही ये बड़ी साजिश

भारतीय नागरिकता मिलने के बाद उनका पूरा परिवार काफी खुश है। वहीं, अब जुबैदा बेगम को दूर-दूर से लोग बधाई देने आ रहे हैं। बता दें, इन 34 सालों में उनका वीजा हर बार बढ़ा दिया जाता था, लेकिन जब भी नागरिकता की बात आती थी तो उसे टाल दिया जाता था। मगर उन्होंने कभी हार नहीं मानी। अब नागरिकता मिलने के बाद जुबैदा बेगम आधार कार्ड और वोटर आईडी कार्ड बनवा रही हैं। अब वो वोट भी डाल पाएंगी।