Top

अगला सीएम कौन: उत्तराखंड में अब किसके सर सजेगा ताज, इन नामों पर चर्चा

केंद्रीय नेतृत्व की तरफ से उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत को दिल्ली बुलाए जाने के बाद यहां नेतृत्व परिवर्तन की कवायद तेज हो गई है।

raghvendra

raghvendraBy raghvendra

Published on 8 March 2021 10:46 AM GMT

अगला सीएम कौन: उत्तराखंड में अब किसके सर सजेगा ताज, इन नामों पर चर्चा
X
फोटो— सोशल मीडिया
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली। केंद्रीय नेतृत्व की तरफ से उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत को दिल्ली बुलाए जाने के बाद यहां नेतृत्व परिवर्तन की कवायद तेज हो गई है। माना जा रहा है कि त्रिवेंद्र सिंह रावत को मुख्यमंत्री पद से हटाया जा सकता है। सूत्रों की मानें तो महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी भी दिल्ली में होने वाली बैठक में शामिल हो सकते हैं। वहीं पार्टी के कई मंत्री व विधायक पहले से ही दिल्ली में मौजूद हैं। राजनीतिक जानकारों की मानें तो केंद्रीय नेतृत्व अगले वर्ष होने वाले उत्तराखंड विधानसभा चुनाव में किसी तरह का रिस्क लेने के मूड में नहीं है। ऐसे में त्रिवेंद्र सिंह रावत की कुसी जाना तय माना जा रहा है। ऐसे में त्रिवेंद्र सिंह रावत के बाद उत्तरखंड की कमान किसे मिल सकती है इसको लेकर कयासबाजी तेज हो गई है।

इन नामों पर हो रही चर्चा

राजनीतिक गलियारों में उत्तराखंड के नए सीएम के तौर पर मंत्री सतपाल महाराज, नैनीताल से लोकसभा सांसद अजय भट्ट और राज्यासभा सांसद अनिल बलूनी के नामों पर चर्चा तेज हो गई है। चर्चा है कि इन्हीं नामों में से किसी एक पर भाजपा बड़ा दांव खेल सकती है। इन नामों में समपाल महाराज का नाम सबसे ऊपर है, क्योंकि हाल ही में उन्होंने संघ से जुड़े नेताओं से मुलाकात भी की थी। बताया जा रहा सतपाल महाराज के नाम पर मोहर लग चुकी है, बस इसका एलान होना बाकी है।

इसे भी पढ़ें: उत्तराखंडः CM त्रिवेंद्र सिंह रावत से मिलने पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा के बेटे

सीएम के खिलाफ विधायकों में गुस्सा

गौरतलब है कि उत्तराखंड में त्रिवेंद्र सिंह रावत से कई विधायक नाराज चल रहे हैं। हाल ही में कई विधायकों ने उनका खुलकर विरोध भी किया था। कुछ विधायकों ने त्रिवेंद्र सिंह रावत के नेतृम्व में अविश्वास व्यक्त करते हुए यह भी कहा है कि पार्टी अगर अगला विधानसभा चुनाव त्रिवेंद्र के नेतृत्व में लड़ती है, तो यहां बीजेपी की सरकार बनना मुश्किल है। फिलहाल दिल्ली में केंद्रीय नेतृत्व में आज होने वाले बैठक में बड़ा एलान होने की पूरी संभावना है।

इसे भी पढ़ें: देश में नई क्रांति लाने वाली ये 5 महिलाएं, जिन्होने पूरे देश को बदल दिया

raghvendra

raghvendra

राघवेंद्र प्रसाद मिश्र जो पत्रकारिता में डिप्लोमा करने के बाद एक छोटे से संस्थान से अपने कॅरियर की शुरुआत की और बाद में रायपुर से प्रकाशित दैनिक हरिभूमि व भाष्कर जैसे अखबारों में काम करने का मौका मिला। राघवेंद्र को रिपोर्टिंग व एडिटिंग का 10 साल का अनुभव है। इस दौरान इनकी कई स्टोरी व लेख छोटे बड़े अखबार व पोर्टलों में छपी, जिसकी काफी चर्चा भी हुई।

Next Story