देखें वीडियो: Ramdhari Singh Dinkar की Rashmirathi का प्रथम सर्ग ज़रूर जानें…

क्षत्रिय वही, भरी हो जिसमें निर्भयता की आग,
सबसे श्रेष्ठ वही ब्राह्मण है, हो जिसमें तप-त्याग।

यह भी देखें