Top

जापान चुनाव : आबे को दो-तिहाई बहुमत हासिल,मिला बेहतरीन जनसमर्थन

जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे के सत्तारूढ़ गठबंधन को रविवार को हुए मध्यावधि चुनाव में अभूतपूर्व जीत मिली है। गठबंधन ने निचले सदन में दो-तिहाई बहुमत हासिल कर लिया है।

Anoop Ojha

Anoop OjhaBy Anoop Ojha

Published on 23 Oct 2017 11:58 AM GMT

जापान चुनाव : आबे  को दो-तिहाई बहुमत हासिल,मिला बेहतरीन जनसमर्थन
X
जापान चुनाव : आबे को दो-तिहाई बहुमत हासिल,मिला बेहतरीन जनसमर्थन
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

टोक्यो: जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे के सत्तारूढ़ गठबंधन को रविवार को हुए मध्यावधि चुनाव में अभूतपूर्व जीत मिली है। गठबंधन ने निचले सदन में दो-तिहाई बहुमत हासिल कर लिया है। इसके साथ ही उनके तीसरी बार लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी का नेतृत्व संभालने की संभावना प्रबल हो गई है और साथ ही यह भी संभावना साफ दिख रही है कि वह सेना रखने से संबंधित संवैधानिक संशोधन की अपनी महत्वाकांक्षा पूरी कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: हाथियों को ट्रेनिंग देने वाली भारतीय मूल की प्रियंका योशिकावा बनीं MISS JAPAN

जापान टाइम्स के मुताबिक, लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी-कोमितो ब्लॉक ने 465 में से 312 सीटें जीत ली हैं। इस जीत से आबे को 70 साल पुराने संविधान में संशोधन का आधार भी मिल सकता है। टोक्यो के गवर्नर यूरिको कोइके के नेतृत्व में नवगठित किबो नो टो (पार्टी ऑफ होप) को 49 सीटें मिली हैं। एक अन्य नवगठित पार्टी कांस्टीट्यूशनल डेमोक्रेटिक पार्टी (सीडीपी) ऑफ जापान ने 54 सीटें जीती हैं। इसके साथ ही सीडीपी सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी के रूप में उभरी है।

यह भी पढ़ें:Japan: प्रधानमंत्री ने उत्तर कोरिया के रॉकेट लांच की निंदा की

चुनाव के बाद आबे ने टेलीविजन साक्षात्कार के दौरान कहा कि उनका सत्तारूढ़ गठबंधन संवैधानिक संशोधन के लिए अकेले जनमत संग्रह का फैसला नहीं कर सकता। उन्हें इसके लिए अन्य पार्टियों का सहयोग चाहिए। आबे ने टोक्यो में पार्टी के मुख्यालय में कहा, "किबो नो टो के सदस्य संविधान में संशोधन के बारे में सकारात्मक और निर्णायक रुख बनाए हुए हैं। मैं किबो नो टो सहित अन्य पार्टियों से चर्चा करना चाहूंगा।"

यह भी पढ़ें:जापान के हिताची में तीन मंजिला अपार्टमेंट में लगी आग, 6 की मौत

आबे ने कहा कि हम रविवार को हुए चुनाव की जीत को नम्रता से अपनाएंगे।जापान टाइम्स के मुताबिक, यह आबे के लिए उल्लेखनीय पल है क्योंकि जुलाई में सत्ता से उनकी पकड़ ढीली पड़ने लगी थी। उनके मंत्रिमंडल की लोकप्रियता 2012 में उनके शपथ लेने के बाद सबसे निचले स्तर तक पहुंच गई थी।

यह भी पढ़ें: जापान में आम चुनाव के लिए मतदान जारी, सोमवार को होंगे घोषित परिणाम

सत्तारूढ़ गठबंधन के ये नतीजे आबे को मिला बेहतरीन जनसमर्थन हो सकता है, जिससे अगले साल होने वाले एलडीपी अध्यक्ष पद के लिए तीसरी बार उनकी दावेदारी को मजबूती मिल सकती है। यदि वह एलडीपी के अध्यक्ष चुन लिए जाते हैं तो वह 2021 तक इस पद पर रहेंगे। वह देश के सबसे लंबे समय तक पद पर रहने वाले प्रधानमंत्री बन जाएंगे।

--आईएएनएस

Anoop Ojha

Anoop Ojha

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story