Top

अमेरिका में दार अल फारूक मस्जिद में विस्फोट, FBI जुटी जाँच में

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 6 Aug 2017 12:04 PM GMT

अमेरिका में दार अल फारूक मस्जिद में विस्फोट, FBI जुटी जाँच में
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

वाशिंगटन : अमेरिका के मिनेसोटा राज्य में एक मस्जिद में उस समय विस्फोट हुआ जब लोग नमाज के लिए एकत्र थे। शनिवार सुबह ब्लूमिंग्टन की दार अल फारूक मस्जिद में हुए विस्फोट में कोई हताहत नहीं हुआ है। लेकिन, इमारत के आगे के हिस्से को नुकसान पहुंचा है। तस्वीरों में एक टूटी खिड़की परदे और कुछ अन्य चीजें झुलसी नजर आ रही हैं।

'सीएनएन' के अनुसार, फेडरल ब्यूरो ऑफ इनवेस्टिगेशन (एफबीआई) इस मामले की जांच कर रहा है और उसने ट्वीट कर बताया कि घर में बने विस्फोटक उपकरण से यह विस्फोट किया गया।

ये भी देखें:सिंघवी कह रहे हैं- नेहरू और गांधी में बड़ा अंतर….चलिए मान लेते हैं

मिनेसोटा की काउंसिल ऑन अमेरिकन इस्लामिक रिलेशंस (सीएआईआर) ने इस मामले के खुलासे के लिए 10,000 डॉलर की पेशकश की है।

मिनेसोटा में सीएआईआर के नागरिक अधिकार विभाग के निदेशक आमिर मलिक ने कहा, "अगर इस घटना के पीछे पूर्वाग्रह का मकसद सिद्ध हो जाता है, तो यह हमला हाल के महीनों में राष्ट्रव्यापी स्तर पर इस्लामिक संस्थानों को लक्षित करने वाली घृणित अपराधों की लंबी सूची में एक और घटना होगी।"

ये भी देखें: पर्रिकर पर हमला! जवान मारे जा रहे थे, रक्षामंत्री गोवा में लंच कर रहे थे

एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि यह विस्फोट सुबह की नमाज के समय हुआ। उस दौरान मस्जिद में 15 से 20 लोग मौजूद थे। प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि लोग मस्जिद से बाहर भागते दिखे और एक कार तेजी से जाती दिखी।

मिनेसोटा की मुस्लिम अमेरिकन सोसाइटी के प्रवक्ता ने कहा कि ऐसा लग रहा है कि किसी ने खिड़की के रास्ते मस्जिद के इमाम के दफ्तर में कुछ फेंका था।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story