नि:संतान को होगी संतान, जन्माष्टमी पर करें इस चमत्कारी मंत्र का जाप

इस बार 11 और 12 अगस्त, मंगलवार व बुधवार को भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि हैं जिसे श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता हैं।  कृष्ण जन्माष्टमी का पर्व भक्तों के लिए शुभता लेकर आता हैं।

Published by suman Published: August 8, 2020 | 7:45 am
janmashtami

जन्माष्टमी चमत्कारी मंत्र जाप संतान प्राप्ति

लखनऊ इस बार 11 और 12 अगस्त, मंगलवार व बुधवार को भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि हैं जिसे श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता हैं।  कृष्ण जन्माष्टमी का पर्व भक्तों के लिए शुभता लेकर आता हैं। इस दिन किए गए कुछ उपाय आपको अभीष्ट फल की प्राप्ति करवाते हैं और जीवन की चिंताओं को दूर करने का काम करते हैं। कान्हा जैसी संतान मिलती है।

 

यह पढ़ें….8 अगस्त राशिफल : इन 2 राशियों को मिलेगा आज सच्चा प्यार, जानें बाकी का हाल

मंत्र का विधि-विधान से जाप

माता-पिता का सम्मान करने और परिवार का नाम रोशन करने वाली संतान की इच्छा किसे नहीं होती है? इस बाबत लोग प्रार्थना भी करते हैं, लेकिन जिस वक्त बच्चे को जन्म होता है, उस समय बन रहे नवग्रह के योग के अनुसार ही संतान की प्राप्ति होती है। यदि सभी ग्रह उच्च के होते हैं तो वह व्यक्ति न केवल ख्याति प्राप्त करता है, बल्कि परिवार का नाम भी रोशन करता है।

 

janmashtami
प्रतीकात्मक

ज्योतिष के अनुसार यदि आप भी यह चाहते हैं कि आपकी आने वाली संतान आपका और अपने परिवार का नाम रोशन करें तो इस जन्माष्टमी पर इसका उपाय आप कर सकते हैं। इसके अलावा यदि शादी को हुए काफी समय हो गया है और आप नि:संतान हैं तो इस श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर आप यहां दिए गए उपाय कर संतान की प्राप्ति कर सकते हैं। जन्माष्टमी पर यहां दिए गए मंत्र का विधि-विधान से जाप करें। इस उपाय से संतान प्राप्ति के योग बन सकते हैं।

 

यह पढ़ें…जन्माष्टमी स्पेशल: एक छोटी सी गलती, इस दिन करवा सकती है बड़ा नुकसान, जानें कैसे

janmashtami
प्रतीकात्मक

मंत्र:

ऐं क्लीं देवकी सुत गोविंद, वासुदेव, जगत्पते।
देहि में तनय कृष्ण, त्वाम अहं शरणं गत: क्लीं।।

जाप विधि:

जन्माष्टमी के दिन सुबह या शाम के समय कुश के आसन पर बैठकर इस मंत्र का जाप करें। सामने बालगोपाल की मूर्ति या चित्र अवश्य रखें और मन में बालगोपाल का स्मरण करें। कम से कम 5 माला जाप अवश्य करें। जाप के बाद कान्हा को माखन-मिश्री का भोग लगाएं और स्वस्थ व सुंदर संतान के लिए प्रार्थना करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App