बच्चों पर ध्यान देंः चाहिए पॉजिटिविटी, तो जल्द करें ये बहुत जरूरी काम

किसी भी घर का वास्तु सम्मत होना, उस घर की उन्नति को बताता हैं। इसलिए घर के सभी कमरों का वास्तु के अनुरूप होना बहुत आवश्यक हैं। खासकर, बच्चों के कमरे का वास्तु सम्मत होना बच्चों के जीवन में सकारात्मकता लेकर आता हैं

Published by suman Published: August 14, 2020 | 11:47 am
child study

वास्तु में इन बातों का रखकर ध्यान, बनाएं अपने बच्चे को कामयाब

जयपुर:किसी भी घर का वास्तु सम्मत होना, उस घर की उन्नति को बताता हैं। इसलिए घर के सभी कमरों का वास्तु के अनुरूप होना बहुत आवश्यक हैं। खासकर, बच्चों के कमरे का वास्तु सम्मत होना बच्चों के जीवन में सकारात्मकता लेकर आता हैं और उनको जीवन में सफलता दिलाता हैं। अपने जीवन में ऊंचाइयों को छूने में वास्तु अपना विशेष योगदान हैं। जानिए बच्चों के रूम से जुड़े कुछ वास्तु टिप्स

 

यह पढ़ें…राशिफल14 अगस्त: रहेगा काम का दबाव या मिलेगी खुशी की खबर, जानें आज का हाल

 

बच्चों का कमरा पश्चिम दिशा में सर्वश्रेष्ठ है किंतु विकल्प के तौर पर उत्तर-पश्चिम भी श्रेष्ठ है। अतः चिल्ड्रेन्स रूम के लिए इन्हीं दो दिशाओं को प्राथमिकता देनी चाहिए। ध्यान रखें कि सोते वक्त उनका सिर दक्षिण दिशा में हो। यदि दक्षिण में सिर रखना संभव न हो तो पूर्व दिशा में भी सिर रखकर सोना उपयुक्त है।

 

child study
प्रतीकात्मक

* स्टडी टेबल को इस प्रकार व्यवस्थित करें कि पढ़ते समय बच्चे का मुंह उत्तर, पूर्व अथवा उत्तर-पूर्व दिशा की ओर रहे। पूर्व दिशा को सबसे शुभ दिशा माना जाता है क्योंकि यह बच्चों को ध्यान केन्द्रित करने में सहायक होता है।

* स्टडी टेबल को दीवार से बिल्कुल सटाकर न रखें। दीवार एवं टेबल के बीच कम से कम 3 फीट की दूरी आवश्यक है। स्टडी टेबल रेगुलर शेप का अर्थात् आयताकार अथवा वर्गाकार ही होना चाहिए। गोल, अंडाकार अथवा कोई अन्य आकार का स्टडी टेबल न रखें।

 

यह पढ़ें…चाहते हैं आपका बच्चा ना हो बीमार तो माता-पिता उनके भोजन पर दें पूरा ध्यान

 

child study
प्रतीकात्मक

* स्टडी एरिया एवं स्टडी टेबल स्टडी के लिए बच्चों के कमरों में उत्तर-पूर्व का कोना यथेष्ट है। स्टडी एरिया बिल्कुल साफ-सुथरा एवं कबाड़ मुक्त होना चाहिए। इससे बच्चों की पढ़ाई में रूचि बढ़ती है तथा उनका संकेन्द्रण भी बढ़ता है। साफ-सुथरा एवं कबाड़ मुक्त स्टडी एरिया होने से बच्चों के दिमाग में नये-नये विचारों का उदय होता है तथा उनकी रचनात्मक गतिविधियां बढ़ती हैं।

 

child study
प्रतीकात्मक

स्टडी टेबल के ऊपर ऐसा ग्लास न रखें जो बच्चे का प्रतिबिंब बनाए। स्टडी टेबल का साइज न अधिक बड़ा और न ही अधिक छोटा होना चाहिए। यदि स्टडी टेबल पूर्वाभिमुख है तो लाइट अथवा लैंप दक्षिण-पूर्व दिशा की ओर रखें और यदि स्टडी टेबल उत्तराभिमुख है तो उत्तर-पश्चिम में लाइट अथवा लैंप रखना उपयुक्त है।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App