Top

माघ पूर्णिमाः भूलकर भी ना करें ये काम, वरना होगा सर्वनाश

एक माह के माघ स्नान के समाप्ति का दिन होता है माघ पूर्णिमा. इस दिन स्नान करें। यदि संभव हो तो पवित्र नदियों में स्नान करें, नहीं तो घर में गंगा जल से स्नान जरूर करें।

suman

sumanBy suman

Published on 26 Feb 2021 3:17 AM GMT

माघ पूर्णिमाः भूलकर भी ना करें ये काम, वरना होगा सर्वनाश
X
माघ पूर्णिमा 2021
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ :माघ मास में शुक्ल पक्ष की अंतिम तिथि को माघ पूर्णिमा होता है। माघ पूर्णिमा के दिन स्नान, जप और तप का विशेष महत्व है। माघ पूर्णिमा के दिन पवित्र नदियों में स्नान किया जाता है। इस बार 27 फरवरी को माघ पूर्णिमा है।

ऐसी मान्यता है कि इस दिन ऐसा स्नान, जप, तप और दान पुण्य करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है। घर में सुख-समृद्धि का वास होता है तथा धन-वैभव की प्राप्ति होती है। इस दिन पूजा-पाठ और दान करने से घर-परिवार और जीवन में सुख, शांति, संपन्नता आती है। इस दिन जरूरतमंदों को भोजन कराएं। गायों को हरा चारा खिलाएं। पक्षियों को दाना-पानी अवश्य दें।

यह पढ़ें...दो दिन में ही भारत ने इंग्लैंड को 10 विकेट से हराया, अश्विन ने हासिल किया बड़ा मुकाम

पूजा का विशेष महत्व

माघ पूर्णिमा के दिन भगवान शिव और भगवान विष्णु की पूजा का विशेष महत्व है। इस पावन दिन मां लक्ष्मी को मिश्री, खीर का भोग लगाने से धन धान्य की प्राप्ति होती है। इस दिन भगवान शिव को पंचामृत अभिषेक करें। भगवान शिव की पूजा में तिल के तेल का दीपक प्रज्जवलित करना चाहिए। माघ पूर्णिमा पर राजस्थान के पुष्कर सरोवर में स्नान करने का विशेष महत्व है। स्नान के उपरांत सूर्यदेव को भी अर्घ्य प्रदान करें। भगवान सूर्य शक्ति के प्रतीक माने जाते हैं। भगवान सूर्य की पूजा से जीवन में आई हर परेशानी दूर हो जाती है।

शुभ मुहूर्त

पूर्णिमा तिथि आरंभ: 3 बजकर 50 मिनट से, 26 फरवरी 2021 को, पूर्णिमा तिथि समाप्त: 1 बजकर 45 मिनट तक, 27 फरवरी 2021 को

दिन क्या करें

एक माह के माघ स्नान के समाप्ति का दिन होता है माघ पूर्णिमा. इस दिन स्नान करें। यदि संभव हो तो पवित्र नदियों में स्नान करें, नहीं तो घर में गंगा जल से स्नान जरूर करें। ऐसी मान्यता है कि इस दिन गंगा जल में भगवान विष्णु का वास होता है।

इस दिन किसी पंडित या पुरोहित से माघ स्नान के बाद पूजा-हवन करवाएं क्योंकि यह शुभ माना गया है। इस दिन भगवान विष्णु या सत्यनारायण स्वामी जी की पूजा-पाठ घर में जरूर करें।भगवान शिव का पंचामृत से अभिषेक जरूर करवाएं. ऐसा करने से सौभाग्य की प्राप्ति होती है। यदि आपकी कुंडली में चंद्र दोष है तो आपको माघ पूर्णिमा व्रत जरूर रखना चाहिए। ऐसा करने से कुंडली दोष समाप्त होता है। व्रत रखने वाले रात में चंद्रमा को अर्घ्य जरूर दें।

यह पढ़ें...26 फरवरी: वृष राशि के लोग जुबान पर रखें लगाम, जानें किन राशियों को होगा लाभ

दिन क्या न करें

गरीब जरूरतमंदों को दान करना आज ना भूलें। ऐसा करने से पुण्य की प्राप्ति होती है, पापों का नाश होता है। माघ पूर्णिमा पर काले वस्त्र धारण ना करें।माघ पूर्णिमा पर मांस-मदिरा लेने से परहेज करें। इस दिन देर तक सोना नहीं चाहिए। ऐसा करना इस दिन वर्जित माना गया है। इस दिन घर और आसपास की सफाई करना न भूलें। गंदगी से घर में नकारात्मक ऊर्जा का वास होता है।

इस दिन संभोग क्रिया से बचें। ऐसा करने से जीवन में कष्‍ट बढ़ सकते हैं।इस दिन बाल, नाखून या शेविंग आदि भूल कर भी न करें। ऐसा करना वर्जित माना गया है। किसी प्रकार का कलह न करें। नहीं तो घर की सुख-शांति हमेशा के लिए चली जाएगी।किसी की निंदा करने से बचें। ऐसा करने से मां लक्ष्मी नाराज हो जाएंगी।

suman

suman

Next Story