इस पवित्र मास में करें ये सरल उपाय, मात्र 27 दिन में मिलेगा धन व समाज में सम्मान

हिंदू मास व पंचांग के अनुसार पौष का महीना दसवां मास होता है। पौष मास की पूर्णिमा को चन्द्रमा पुष्य नक्षत्र में रहता है और इसी कारण इस महीने को पौष का मास कहते हैं। इस महीने में भगवान सूर्यनारायण की विशेष पूजा अर्चना से उत्तम स्वास्थ्य और मान सम्मान की प्राप्ति होती है।दरअसल जिस महीने की पूर्णिमा को चंद्रमा जिस नक्षत्र में होता है उस महीने का नाम उसी नक्षत्र के आधार पर रखा जाता है।

Published by suman Published: December 10, 2019 | 3:13 pm

जयपुर: हिंदू मास व पंचांग के अनुसार पौष का महीना दसवां मास होता है। पौष मास की पूर्णिमा को चन्द्रमा पुष्य नक्षत्र में रहता है और इसी कारण इस महीने को पौष का मास कहते हैं। इस महीने में भगवान सूर्यनारायण की विशेष पूजा अर्चना से उत्तम स्वास्थ्य और मान सम्मान की प्राप्ति होती है।दरअसल जिस महीने की पूर्णिमा को चंद्रमा जिस नक्षत्र में होता है उस महीने का नाम उसी नक्षत्र के आधार पर रखा जाता है। पौष मास की पूर्णिमा को चंद्रमा पुष्य नक्षत्र में रहता है इसलिए इस मास को पौष का मास कहा जाता है।

यह पढ़ें…किसी के प्यार, किसी के धन पर होगा नजर, इस ग्रह के परिवर्तन का राशियों पर पड़ेगा असर

पौराणिक ग्रंथों की मान्यता अनुसार पौष मास में सूर्य देव की उपासना उनके भग नाम से करनी चाहिये। पौष मास के भग नाम सूर्य को ईश्वर का ही स्वरूप माना गया है। पौष मास में सूर्य को अर्ध्य देने व इनका उपवास रखने का विशेष महत्व माना गया है। मान्यता है कि इस मास प्रत्येक रविवार व्रत व उपवास रखने और तिल चावल की खिचड़ी का भोग लगाने से मनुष्य तेजस्वी बनता है।इस साल पौष मास शुक्रवार, 13 दिसंबर 2019 से शुरू होने जा रहा है। इस महीने में भगवान सूर्य को अर्घ्‍य देने और उपवास रखने का विशेष महत्‍व होता हैं।जानते हैं इस माह कौन से बड़े वरदान प्राप्त हो सकते हैं।
इस महीने दो एकादाशियां आएंगी पहली कृष्ण पक्ष को सफला एकादशी और दूसरी शुक्ल पक्ष को पुत्रदा एकादशी। पौष अमावस्या और पौष पूर्णिमा का भी बहुत अधिक महत्व माना जाता है। इस दिन को पितृदोष, कालसर्प दोष से मुक्ति पाने के लिये भी इस दिन उपवास रखने के साथ-साथ विशेष पूजा अर्चना की जाती है।

सुबह सूर्य उदय होने से पहले उठे और स्नान करके हल्के लाल रंग के कपड़े पहने। एक लाल आसन पर बैठकर रुद्राक्ष की माला से 108 बार सूर्य के मन्त्र ॐ घृणि सूर्याय नमः का पाठ करें

वहीं तांबे के लोटे में जल भरकर भी रखे और ॐ मन्त्र 27 बार उच्च स्वर में जपें व फिर इस जल को सारे घर मे छिड़क दें। ऐसा लगातार 27 दिन तक करें । कार्यों में तेज़ी आएगी और रुका हुआ धन भी जरूर मिलेगा।

यह पढ़ें…9 DEC: इन राशियों के जातक को मिलेगा सपनों का राजकुमार, जानिए राशिफल

सुबह के समय जल्दी उठें और उगते हुए भगवान सूर्य नारायण को तांबे के लोटे में जल और गुड़ मिलाकर अर्घ्य  दें तथा तीन परिक्रमा करें।

नारंगी और लाल रंग का अधिक से अधिक प्रयोग करें। रविवार के दिन सुबह के समय तांबे के बर्तन/गुड़ और लाल वस्त्र का दान करें।  अपने माता पिता के चरण स्पर्श रोज करें।

भोजपत्र पर तीन बार गायत्री मंत्र लाल चंदन से  लिखकर अपने पर्स में रखें।लाल चंदन की माला से गायत्री मंत्र का सूर्य के समक्ष जाप करें।