Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

शिक्षकों को बड़ी सौगात: 22 फीसदी बढ़ा वेतन, सरकार ने मान ली ये सभी मांगें

कैबिनेट बैठक में कुल 28 प्रस्तावों को मंजूरी दी गई है। जिसमें सबसे ज्यादा राहत शिक्षकों को दी गयी। शिक्षकों की सेवा शर्त नियमावली को मंजूरी दे दी है।

Shivani

ShivaniBy Shivani

Published on 18 Aug 2020 2:20 PM GMT

शिक्षकों को बड़ी सौगात: 22 फीसदी बढ़ा वेतन, सरकार ने मान ली ये सभी मांगें
X
Bihar Government increased contractual teachers salary
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पटना. नीतीश सरकार ने बिहार के शिक्षकों के लिए बड़ी सौगात दी है। मंगलवार को हुई बिहार कैबिनेट की बैठक में नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ा फैसला लिया गया। इसके तहत नियोजित शिक्षकों की सेवा शर्त नियमावली को मंजूरी दे दी गयी है। वहीं लम्बे समय से लंबित पड़े शिक्षकों की ज्यादातर मांगों को भी मान लिया गया। सरकार के फैसले के बाद राज्य के करीब पौने चार लाख शिक्षकों को लाभ मिलेगा।

बिहार कैबिनेट का शिक्षकों के लिए बड़ा फैसला

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में मंगलवार को हुई कैबिनेट बैठक में कुल 28 प्रस्तावों को मंजूरी दी गई है। जिसमें से सबसे ज्यादा राहत शिक्षकों को दी गयी। सरकार ने शिक्षकों की मांगों को मानकर सेवा शर्त नियमावली को मंजूरी दे दी है। नीतीश कैबिनेट की मंजूरी के बाद शिक्षकों को प्रोन्नति, स्वैच्छिक स्थानंतरण समेत कई सुविधाओं का लाभ मिल सकेगा। इसका फ़ायदा सीधे राज्य के करीब पौने चार लाख शिक्षकों को होगा।

मिली 22 प्रतिशत वेतन इजाफे की मंजूरी :

सरकार ने शिक्षकों के वेतन में 22 फीसदी तक का इजाफा कर दिया है। जिसका लाभ एक अप्रैल 2021 से मिलेगा। वहीं इस फैसले से सरकार के खजाने पर 2765 करोड़ रुपये का अतिरिक्त बोझ बढ़ेगा। बता दें कि मौजूदा समय में शिक्षकों के वेतन मद में 820 करोड़ रुपये खर्च हो रहे हैं।

ये भी पढ़ेंः कर्मचारियों पर बड़ा फैसला, बंद होने जा रही देश की ये सरकारी कंपनी

वरिष्ठता के आधार पर वेतन वृद्धि

बताया जा रहा है कि वरिष्ठता के आधार पर निर्णय किया जाएगा कि शिक्षकों के वेतन में 15 से 22 प्रतिशत तक की कितनी बढ़ोतरी की जाएं।

-शिक्षकों को मिलने वाले लाभ में ईपीएफ के तौर पर 12-12 फीसदी का अंश 12 फीसदी सरकार अपने हिस्से से देगी।

-स्थानान्तरण, प्रोमोशन समेत अन्य तरह की सुविधा का तोहफा मिलने वाला है।

-बिहार के नियोजित शिक्षक राज्य के किसी भी क्षेत्र में ट्रांसफर ले सकेंगे।

ये भी पढ़ेंः खुशखबरी: 3 वैक्सीन भारत के पास, एक का शुरू होने जा रहा थर्ड फेज ट्रायल

-उन्हें संयुक्त सीमित परीक्षा के माध्यम से प्रोमोशन का भी लाभ मिलेगा।

-किसी भी शिक्षक की मौत के बाद उनके परिजनों को अनुकंपा पर नौकरी भी मिल सकेगी।

-शिक्षकों से जुड़ी इस नियमावली पर मुहर लगने से बिहार के साढ़े तीन लाख से अधिक शिक्षकों को फायदा मिलेगा।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shivani

Shivani

Next Story