Top

किसान मांग रहा न्याय: 2 दिन पैदल चलकर पहुंचा DM ऑफिस, लगाई इंसाफ की गुहार

85 साल का किसान अपनी 22 कट्ठा जमीन के लिए कई सालों से संघर्ष कर रहा है। जहां उसकी जमीन पर दबंगों ने कब्जा कर लिया है और वह अपने हक के लिए लड़ाई लड़ रहा है। आखिर में उसने डीएम ऑफिस का दरवाजा खटखटाने का फैसला किया।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 13 March 2021 8:04 AM GMT

किसान मांग रहा न्याय: 2 दिन पैदल चलकर पहुंचा DM ऑफिस, लगाई इंसाफ की गुहार
X
किसान मांग रहा न्याय
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: एक तरफ भारत में किसान कृषि कानून और अपनी फसलों के एमएसपी को लेकर आंदोलन कर रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ 85 साल का किसान अपनी 22 कट्ठा जमीन के लिए कई सालों से संघर्ष कर रहा है। जहां उसकी जमीन पर दबंगों ने कब्जा कर लिया है और वह अपने हक के लिए लड़ाई लड़ रहा है। सालों से प्रशासनिक दफ्तरों के चक्कर लगा-लगा कर वह थक चुका है और आखिर में उसने डीएम ऑफिस का दरवाजा खटखटाने का फैसला किया।

जाने कहां का है ये मामला

ये पूरा मामला बिहार के गोतालगंज का है। जहां फुलवरिया के तुरकहा गांव के रहने वाले बुजुर्ग किसान रामाशंकर राय अपनी जमीन को दबंगों के कब्जे से मुक्त कराना चाहता है और जिसके लिए वह पिछले लगभग दो दशकों से प्रशासनिक दफ्तरों के चक्कर लगा रहे हैं। रामाशंकर अपनी जमीन वापस पाने के लिए थाने और सीओ ऑफिस के चक्कर लगा-लगाकर थक चुके है। जिसके बाद उन्होंने अपनी गुहार जिलाधिकारी तक पहुंचाने का फैसला किया। जिसके लिए वह लगातार 2 दिनों तक पैदल चलकर गोपालगंज के डीएम कार्यालय पहुंचे और वहां पहुंचकर उन्होंने जनता दरबार में अपनी जमीन वापसी की गुहार लगाई।

ये भी देखिये: टीका लगवाने के लिए लाइन में खड़ा रहा 63 साल का डायबिटीज का पेशेंट, ऐसे हुई मौत

दबंगों से परेशान किसान

84 साल के रामाशंकर राय के मुताबिक यह 22 कट्ठा जमीन उनकी पुश्तैनी है, जिस पर दबंगों ने कब्जा कर रखा है। और अपन जमीन वापस पाने के लिए वह सन् 1986 से मुकदमा लड़ रहे। जिसके बाद सन् 2005 में कोर्ट ने उनके पक्ष में फैसला भी दे दिया, फिर भी उनकी जमीन उनको नहीं मिली। इसके बाद से वह दो दशकों से अलग-अलग सरकारी दफ्तरों के चक्कर लगा रहे हैं। वहीं अभी तक जमीन न मिलने से परेशान होकर उन्होंने डीएम से मिलकर जमीन वापसी की गुहार लगाई है।

डीएम ने दिया आश्वासन

रामाशंकर ने बताया कि डीएम ने उनकी गुहार सुन ली है साथ ही रामाशंकर के आवेदन पर तुरंत एक्शन लेते हुए उनका हक दिलाने का आश्वासन दिया है। जिसके बाद उन्हें थोड़ी राहत महसूस हो रही है।

ये भी देखिये: तेलंगाना: ओवैसी के बयान पर BJP का पलटवार, कहा- गिरगिट की तरह रंग बदलते हैं AIMIM प्रमुख

दोस्तों देश दुनिया की और को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story