Top

तेजस्वी के तेज से चमक उठे बिहार में कम्युनिस्ट, बंपर सीटों का इजाफा

बिहार में बदलाव की बयार चलेगी या सुशासन बाबू की बहार बनी रहेगी इसका फैसला तो मंगलवार की शाम तक हो जाएगा लेकिन विधानसभा चुनाव में तेजस्वी का साथ प्रदेश की कम्युनिस्ट पार्टियों के शुभ मंगल वरदान साबित हुआ है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 10 Nov 2020 9:41 AM GMT

तेजस्वी के तेज से चमक उठे बिहार में कम्युनिस्ट, बंपर सीटों का इजाफा
X
तेजस्वी के तेज से चमक उठे बिहार में कम्युनिस्ट, बंपर सीटों का इजाफा (Photo by social media)
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पटना: बिहार विधानसभा चुनाव में तेजस्वी का साथ प्रदेश की राजनीति में कम्युनिस्ट पार्टियों के लिए तो वरदान से कम नहीं है। पांच साल पहले विधानसभा के दरवाजे तक पहुंचने में नाकाम रहे वाम दलों की इस बार बांछें खिली हुई हैं। डेढ़ दर्जन सीटों पर वामदलों की स्थिति मजबूत बनी हुई है जबकि पिछले चुनाव में केवल सीपीआईएमएल को ही तीन सीटों पर जीत मिल पाई थी।

ये भी पढ़ें:दाऊद पर तगड़ा हमला: चुनाव के बीच आई बड़ी खबर, हिल उठे सारे माफिया

बिहार में बदलाव की बयार चलेगी या सुशासन बाबू की बहार बनी रहेगी

बिहार में बदलाव की बयार चलेगी या सुशासन बाबू की बहार बनी रहेगी इसका फैसला तो मंगलवार की शाम तक हो जाएगा लेकिन विधानसभा चुनाव में तेजस्वी का साथ प्रदेश की कम्युनिस्ट पार्टियों के शुभ मंगल वरदान साबित हुआ है। कम्युनिस्ट पार्टियों की किस्मत का ताला खुलता नजर आ रहा है। चुनाव परिणाम के रुझान बता रहे हैं कि तेजस्वी यादव समर्थक मतों का साथ मिलने से इस बार कम्युनिस्ट दलों की भी झोली जीत से भर गई है। कम्युनिस्ट दलों को तेजस्वी ने महागठबंधन समझौते के तहत कुल 29 सीट ही दी थी। दस सीट तो सीधे तेजस्वी ने अपने खाते से चुनाव लड़ने के लिए दी थी। 29 सीटों में कम्युनिस्ट पाटियां कम से कम 18 सीट पर जीत दर्ज कराती दिख रही हैं।

सीपीआईएमएल को ही 12 सीट पर बढ़त मिल चुकी है

अकेले भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी मार्क्सवादी लेनिनवादी (सीपीआईएमएल) को ही 12 सीट पर बढ़त मिल चुकी है जबकि पांच साल पहले हुए चुनाव में सीपीआईएमएल को कुल तीन सीटों पर ही जीत मिली थी। पिछले चुनाव में सभी वाम दलों में अकेले सीपीआईएमएल ने ही विधानसभा का मुंह देखा था। बाकी दलों के प्रत्याशी चुनाव मैदान में ही खेत रहे थे। इस बार तेजस्वी का साथ मिलने के बाद कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (सीपीआई)तीन सीट पर और कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया मार्क्सवादी (सीपीआईएम)भी तीन सीट पर बढ़त बनाए हुए हैं।

ये भी पढ़ें:बिहार: BJP प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल उपचुनाव नतीजों पर 4 बजे करेंगे प्रेसवार्ता

सीपीआई 4 और सीपीआईएम केवल 6 सीट पर चुनाव लड़ रहे हैं

उल्लेखनीय तथ्य यह भी है कि सीपीआई 4 और सीपीआईएम केवल 6 सीट पर चुनाव लड़ रहे हैं। इसी तरह 19 सीट पर चुनाव लडऩे वाली सीपीआईएमएल अब तक 12 सीट पर आगे चल रही है। तीनों कम्युनिस्ट दलों के चुनाव में आगे चलने की वजह से वामपंथ समर्थकों में खासा उत्साह नजर आ रहा है। पटना में इन दलों के कार्यालय में भी चहल-पहल देखने को मिल रही है। राजद के कार्यालय में मौजूद नेता भी कह रहे हैं कि तेजस्वी ने इस बार जिसे भी छू दिया है वह राजनीतिक दल सोना बन गया है।

रिपोर्ट- अखिलेश तिवारी

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story