Top

बिहार पर खतराः 70 से ज्यादा माइक्रो कंटेनमेंट जोन यहां, सरकार ने बढ़ाई सुरक्षा

होली का त्योहार आने वाला है। इसी बीच बाकी राज्यों की तरह बिहार में भी कोरोना के नए मामले मिलने लगे है। बिहार में 24 घंटों के अंदर एक साथ 126 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।

Monika

MonikaBy Monika

Published on 22 March 2021 3:26 AM GMT

बिहार पर खतराः 70 से ज्यादा माइक्रो कंटेनमेंट जोन यहां, सरकार ने बढ़ाई सुरक्षा
X
बिहार में भी बढ़ने लगे कोरोना केस, यहां बने 70 से ज्याजदा माइक्रो कंटेनमेंट जोन
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पटना: होली का त्योहार आने वाला है। इसी बीच बाकी राज्यों की तरह बिहार में भी कोरोना के नए मामले मिलने लगे है। बिहार में 24 घंटों के अंदर एक साथ 126 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं, वहीं पटना में 51 लोग संक्रमित पाए गए हैं। जिसके साथ ही प्रदेश में एक्टिव केस की संख्या बढ़कर 242 पहुंच गई है, वही पूरे राज्य में ये संख्या 522 तक पहुंच गई है।

इन जगहों पर इतने केस

बता दें, भागलपुर दूसरा सबसे संक्रमित जिला बन गया है। यहां भी एक बार फिर से लोग कोरोना के चपेट में आने लगे हैं। जिसके साथ कुल 13 लोग पॉजिटिव पाए गए । अररिया में 6 और रोहतास में 7 मरीज संक्रमित पाए गए हैं। कोरोना के नए मामले सामने आने से राज्य के सभी 38 जिले अब संक्रमण की चपेट में आ गए हैं।

24 घंटों में 55376 सैम्पल

पिछले 24 घंटों में बिहार में 55376 सैम्पल की जांच की गई। ये राहत की बात है कि अब भी यहा रिकवरी रेट अन्य राज्यों से बेहतर है। एक्टिव मामलों में तेज़ी देखते हुए सभी जिलों में टेस्टिंग की रफ्तार बढ़ा दी गई है। बिहार में आने वाले लोगों का अब सर्वे कर डाटा तैयार किया जा रहा है। सभी जिलों में रेलवे स्टेशनों से लेकर बस स्टॉप पर भी बाहर से आनेवालों पर न सिर्फ नजर रखी जा रही है, बल्कि सभी की जांच भी की जा रही है।

स्कूल नहीं हुए बंद

सरकार ने अभी किसी भी शैक्षणिक संस्थानों को बंद करने का विचार नहीं किया है। सभी स्कूलों में रोज सैनिटाइज करने और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करवाने का निर्देश दिया गया है।

वही स्वास्थ्य विभाग के आदेश पर सभी सिविल सर्जन खुद क्षेत्र का दौरा कर रहे हैं और माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाकर मरीजों और सम्पर्क में आए लोगों की निगरानी की जा रही है। माइक्रो कंटेनमेंट जोन लगातार बढ़ते जा रहे हैं और 70 से ज्यादा माइक्रो कंटेनमेंट जोन बना दिये गए हैं।

ये भी पढ़ें : गुस्से में हैवान बना पड़ोसी, पौधा उखाड़ने पर बच्ची पर डाला केरोसिन

दोस्तों देश दुनिया की और को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Monika

Monika

Next Story