टीम इंडिया में पटना के इशान ने बनाई जगह, आरके श्रीवास्तव ने दी बधाई

इंग्लैंड के खिलाफ भारतीय टी-20 टीम में पटना के रहने वाले इशान किशन का चयन किया गया है।  शनिवार को विजय हजारे ट्रॉफी में तूफानी शतक ठोकने वाले इशान की कामयाबी पर बिहार के चर्चित शिक्षक आरके श्रीवास्तव ने उन्हें बधाई और शुभकामनाये दिया।

Published by Monika Published: February 23, 2021 | 8:42 am
आरके श्रीवास्तव -इशान किशन

आरके श्रीवास्तव -इशान किशन (file pic )

पटना:  इंग्लैंड के खिलाफ भारतीय टी-20 टीम में पटना के रहने वाले इशान किशन का चयन किया गया है।  शनिवार को विजय हजारे ट्रॉफी में तूफानी शतक ठोकने वाले इशान की कामयाबी पर बिहार के चर्चित शिक्षक आरके श्रीवास्तव ने उन्हें बधाई और शुभकामनाये दिया।

बचपन से था क्रिकेट का जूनुन

पटना के इशान किशन पर बचपन से क्रिकेट का जूनुन इस कदर हावी था कि उसे स्कूल से बाहर कर दिया गया। शनिवार को उसी किशन ने इंग्लैंड के खिलाफ भारतीय टी-20 टीम में शामिल हो अपनी टीम झारखंड और अपने राज्य बिहार काे गौरवान्वित होने का मौका दिया है। शनिवार को विजय हजारे ट्रॉफी में तूफानी शतक ठोकने वाले इशान की कामयाबी से उसके पिता प्रणव पांडेय और मां सुचित्रा सिंह फूले नहीं समा रहे थे। उन्होंने  बताया कि भगवान के आशीर्वाद और इशान की मेहनत रंग लाई है। मां ने कहा कि, मैं छठ पूजा करती हूं और मुझे भगवान में काफी विश्वास है। 2016 में छठ के तुरंत बाद वह अंडर-19 विश्व कप के लिए भारतीय टीम का कप्तान बना था। आज वह भारत की सीनियर टीम में शामिल हो गया है। छठ मइया की कृपा उसपर इसी तरह बनी रहे।

आरके श्रीवास्तव -इशान किशन

टीम इंडिया में जगह पाना हर खिलाड़ी का सपना

बिहार के प्रसिद्ध शिक्षक आरके श्रीवास्तव ने कहा टीम इंडिया में जगह पाना हर खिलाड़ी का सपना होता है, हमें ईशान किशन पर गर्व है।   टीम इंडिया को एक मजबूत विकेटकीपर बल्लेबाज की तलाश थी जो मिल गया। आरके श्रीवास्तव ने बताया की ईशान किशन बहुत ही मिलनसार और संस्कारिक है। सीमित ओवरों में फिलहाल केएल राहुल और ऋषभ पंत टीम का हिस्सा थे लेकिन इशान किशन ने जिस तरह प्रदर्शन किया है वह एक मजबूत दावेदार के रूप में सामने आए हैं।

ये भी पढ़ें…न्याय ना मिलने पर आत्महत्या की दी धमकी, कानपुर देहात में परेशान पीड़ित

आरके श्रीवास्तव -इशान किशन

कौन है आरके श्रीवास्तव?

बिहार के रोहतास जिले के रहने वाले आरके श्रीवास्तव देश में मैथेमैटिक्स गुरु के नाम से मशहूर हैं। खेल-खेल में जादुई तरीके से गणित पढ़ाने का उनका तरीका लाजवाब है। कबाड़ की जुगाड़ से प्रैक्टिकल कर गणित सिखाते हैं। सिर्फ 1 रुपया गुरु दक्षिणा लेकर स्टूडेंट्स को पढ़ाते हैं। आर्थिक रूप से सैकड़ों गरीब स्टूडेंट्स को आईआईटी, एनआईटी, बीसीईसीई सहित देश के प्रतिष्ठित संस्थानों में पहुँचाकर उनके सपने को पंख लगा चुके हैं। वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्डस और इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड में भी आरके श्रीवास्तव का नाम दर्ज है।

आरके श्रीवास्तव के शैक्षणिक कार्यशैली की प्रशंसा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद भी कर चुके हैं। इनके द्वारा चलाया जा रहा नाइट क्लासेज अभियान अद्भुत, अकल्पनीय है। स्टूडेंट्स को सेल्फ स्टडी के प्रति जागरूक करने लिये 450 क्लास से अधिक बार पूरी रात लगातार 12 घंटे गणित पढ़ा चुके हैं। इनकी शैक्षणिक कार्यशैली की खबरें देश के प्रतिष्ठित अखबारों में छप चुकी हैं, विश्व प्रसिद्ध गूगल ब्वाय कौटिल्य के गुरु के रूप में भी देश इन्हें जानता है।

ये भी पढ़ें : बिहार में एलियन बच्चा: दूर-दूर से देखने आ रहे लोग, डॉक्टर भी हुए हैरान

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App