Top

नीतीश कुमार बने बिहार के मुख्यमंत्री, तो रचेंगे ये नया इतिहास

नीतिश कुमार मुख्यमंत्री बनेगें तो पिछले दो दशकों में सात बार मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने में उनका नाम शुमार हो जाएगा। उन्होंने सबसे पहली बार साल 2000 में मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 13 Nov 2020 5:50 AM GMT

नीतीश कुमार बने बिहार के मुख्यमंत्री, तो रचेंगे ये नया इतिहास
X
जेडीयू ने आज अपनी पार्टी की बैठक बुलाई थी। पटना में जेडीयू के नवनिर्वाचित विधायकों की बैठक हुई। नीतीश कुमार को जेडीयू के विधायक दल का नेता चुना गया।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: बिहार विधानसभा चुनाव परिणाम आने के बाद सब कुछ साफ हो चुका है। एनडीए को बहुमत मिल चुका है। उसकी सरकार बननी है। अब इंतजार है तो सिर्फ और सिर्फ शपथ ग्रहण समारोह का। ऐसी संभावना है कि दीपावली के बाद अगले सप्ताह नई सरकार का गठन हो सकता है। संभावना इस बात की है कि जेडीयू अध्यक्ष नीतीश कुमार एक बार फिर बिहार के मुख्यमंत्री बनेंगे।

ये भी पढ़ें:राफेल पर बड़ा खतरा! दिवाली पर पाकिस्तान ने रची बड़ी साजिश, जारी हुआ हाई अलर्ट

नीतीश कुमार इस पद पर अभी तक 14 वर्ष 82 दिन तक रह चुके हैं

यहां यह बताना जरूरी है कि देश के बडे राज्यों में से एक बिहार में अभी तक सर्वाधिक समय तक मुख्यमंत्री रहने का रिकॉर्ड श्रीकृष्ण सिंह के नाम पर है। जो इस पद पर 17 वर्ष 52 दिन तक रहे थे। इसके बाद नीतीश कुमार इस पद पर अभी तक 14 वर्ष 82 दिन तक रह चुके हैं।

इस बार जब नीतिश कुमार मुख्यमंत्री बनेगें तो पिछले दो दशकों में सात बार मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने में उनका नाम शुमार हो जाएगा। उन्होंने सबसे पहली बार साल 2000 में मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी। इसके बाद राजनीतिक उतार चढ़ाव के चलते वह इस्तीफा देते रहे और मुख्यमंत्री पद की शपथ लेते रहे हैं।

nitish-kumar-jdu nitish-kumar-jdu (Photo by social media)

बिहार में मुख्यमंत्री के नाम का फैसला एनडीए विधायक दल की बैठक में होगा। यह बैठक दीपावली के बाद ही होने की पूरी संभावना है। नीतीश कुमार कह चुके है। कि कि हमलोग पहली बार सरकार में आए तो 88 विधायक के साथ। दूसरी बार 115 विधायक लेकर आए और 2015 में 101 लड़कर 71 जीते। एनडीए में भाजपा को सबसे ज्यादा 74 सीटें मिली हैं, जबकि जेडीयू को सिर्फ 43 सीटें मिली हैं।

ये भी पढ़ें:हनुमान जयंती आज: मंदिरों में विशेष तैयारियां, विशेष श्रृंगार के साथ होंगे विविध अनुष्ठान

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि लोगों ने एनडीए को जनादेश दिया है

2015 में जेडीयू को 71 सीटें मिली थी, जबकि 2010 में उसे 115 सीटें मिली थीं। ऐसे में अब सवाल उठ रहा है कि क्या नीतीश कुमार इस प्रदर्शन के आधार पर फिर से मुख्यमंत्री बनेंगे? बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि लोगों ने एनडीए को जनादेश दिया है और वह सरकार बनाएगी। हालांकि अभी यह तय नहीं हुआ है कि शपथ समारोह कब होगा, दिवाली के बाद या छठ के बाद ये बात अबतक साफ नहीं हो सकी है।

रिपोर्ट- श्रीधर अग्निहोत्री

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story