×

कौन हैं रेणु देवी: जिन्होंने बिहार में रचा इतिहास, बनी बिहार की पहली डिप्टी सीएम

बिहार में नीतीश कुमार की कैबिनेट में उप मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने वालों में भाजपा की रेणु देवी शामिल है। वह बिहार की पहली महिला उप मुख्यमंत्री बनी है। चंपारण की इस बेटी की ताजपोशी में शामिल होने चंपारण के बेतिया से भी बड़ी संख्या में रेणु देवी के समर्थक उनके शपथ ग्रहण समारोह में पहुंचे।

Newstrack
Updated on: 16 Nov 2020 2:24 PM GMT
कौन हैं रेणु देवी: जिन्होंने बिहार में रचा इतिहास, बनी बिहार की पहली डिप्टी सीएम
X
बिहार की पहली महिला उप मुख्यमंत्री बनी रेणु देवी
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

मनीष श्रीवास्तव

लखनऊ: बिहार में नीतीश कुमार की कैबिनेट में उप मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने वालों में भाजपा की रेणु देवी शामिल है। वह बिहार की पहली महिला उप मुख्यमंत्री बनी है। चंपारण की इस बेटी की ताजपोशी में शामिल होने चंपारण के बेतिया से भी बड़ी संख्या में रेणु देवी के समर्थक उनके शपथ ग्रहण समारोह में पहुंचे।

ये भी पढ़ें: बैन हुआ दिग्गज खिलाड़ी: इनके खिलाफ लगा बड़ा आरोप, 2 साल के लिए हुए दूर

2000 में पहली बार चुनी गई थीं विधायक

62 वर्षीय रेणु देवी पांचवी बार बेतिया विधानसभा से जीत कर आईं हैं। वह पहली बार वर्ष 2000 में विधायक चुनी गई थी। इसके बाद वर्ष 2005, 2010 और अब 2020 में उन्होंने जीत का परचम लहराया लेकिन वर्ष 2015 में महागठबंधन की लहर में वह महज दो हजार मतों से भी कम के अंतर से चुनाव हार गई थी। वर्ष 2005 में नीतीश सरकार में वह कला-संस्कृति मंत्री का पद संभाल चुकीं हैं।

अति पिछड़ी समाज की नोनिया जाति से आने वाली रेणु देवी का राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ से पुराना नाता रहा है। उनकी मां संघ परिवार से जुड़ी रही है और उनके ननिहाल में भाजपा और संघ का ही बोलबाला रहा। इंटर तक शिक्षा ग्रहण करने वाली रेणु देवी वर्ष 1988 से ही राजनीतिक व सामाजिक कार्यों से जुड़ गई थी। भाजपा से जुड़ने के बाद उन्होंने पार्टी के महिला मोर्चा में कई अहम पदों को संभाला और लगातार पार्टी व समाज के लिए काम करती रही।

Photo- Social Media

खेल एवं कला-संस्कृति मंत्री भी बनीं

वर्ष 2000 में वह पहली बार बेतिया से चुनाव जीती और विधानसभा पहुंची, इसके बाद वर्ष 2005 में भी उन्होंने जीत हासिल की और नीतीश कुमार ने उन्हे अपनी सरकार में खेल एवं कला-संस्कृति मंत्री बनाया। इसके बाद वर्ष 2010 में उन्होंने लगातार तीसरी बार जीत की हैट्रिक लगा कर साफ कर दिया कि वह राजनीति में लंबी रेस की खिलाड़ी है। हालांकि वर्ष 2015 में बने विरोधी दलों के महागठबंधन की लहर में वह दो हजार से भी कम वोटों के अंतर से हार गई। हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव में उन्होंने एक बार फिर जीत के साथ वापसी की।

ये भी पढ़ें: कर्मचारियों पर अच्छी खबर: सरकार ने जारी किया नया नियम, होगा बंपर फायदा

उप मुख्यमंत्री बनने के पीछे ये है वजह

रेणु देवी को उप मुख्यमंत्री बनाये जाने के पीछे उनका अति पिछड़ी जाति से होना माना जा रहा है। बिहार चुनाव के दौरान ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अति पिछड़ों को भाजपा का साइलेंट वोटर बताया था। अभी तक ये वोट बैंक जदयू का परंपरागत वोट बैंक माना जाता है लेकिन अब जबकि बिहार में भाजपा ने सीटों के मामलें मे जदयू को पीछे छोड़ दिया है और वह बिहार में अपना आधार और बढ़ाने की राह पर निकल चुकी है तो ऐसे समय में वह इस वोट बैंक को पूरी तरह से अपने पाले में लाना चाहती है।

file photo

पहले भी मंत्री रह चुकीं रेणु देवी रविवार को भाजपा विधायक दल की उप नेता चुनी गईं। इनके डिप्टी सीएम बनने की प्रबल दावेदारी है। नोनिया जाति से आने वाली रेणु देवी पांच बार विधानसभा चुनाव जीत चुकी हैं। अमित शाह की टीम में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रह चुकीं रेणु देवी का बेतिया में अच्छा खासा प्रभाव माना जाता है। रेणु 2005 वाले नीतीश सरकार में कला संस्कृति मंत्री थीं। महिला और अति पिछड़ा के तौर पर बिहार के डिप्टी सीएम बनाया जा सकता है।

ये भी पढ़ें: बुरे फंसे अर्जुन रामपाल: ड्रग्स पर NCB की छानबीन जारी, हो सकता है बड़ा खुलासा

Newstrack

Newstrack

Next Story