Top

जल्द होने जा रहा है ये काम, तो क्या भारत होगा सबसे आगे...

वाशिंगटन। भारत की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने भारतीय मुद्रा कोष के मुख्यालय में अंतरराष्ट्रीय निवेशकों से विचार विमर्श के सत्र में कहा है कि निवेशकों को अपनी पूंजी लगाने के लिए भारत के अलावा कोई बेहतर जगह नहीं है। भारत में पूंजीपतियों के लिए उचित माहौल है। सरकार लगातार आर्थिक सुधारों पर काम कर रही है।

राम केवी

राम केवीBy राम केवी

Published on 17 Oct 2019 9:22 AM GMT

जल्द होने जा रहा है ये काम, तो क्या भारत होगा सबसे आगे...
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

वाशिंगटन। भारत की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने भारतीय मुद्रा कोष के मुख्यालय में अंतरराष्ट्रीय निवेशकों से विचार विमर्श के सत्र में कहा है कि निवेशकों को अपनी पूंजी लगाने के लिए भारत के अलावा कोई बेहतर जगह नहीं है। भारत में पूंजीपतियों के लिए उचित माहौल है। सरकार लगातार आर्थिक सुधारों पर काम कर रही है।

सीतारमण ने कहा, "इसलिए आपके पास भारत में बेहतर कोई दूसरी जगह नहीं ... जो कि लोकतंत्र-प्रेमी, पर्यावरण का सम्मान करने वाला है...", उन्होंने कहा कि भले ही अदालत का सिस्टम थोड़ा देर वाला हो लेकिन भारत एक पारदर्शी और खुला समाज है।

आर्थिक मंदी: निर्मला सीतारमण के पति ने मोदी सरकार पर कही ये बड़ी बा

प्रमुख बीमा कंपनियों के सवालों का जवाब देते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि बीमा क्षेत्र में सीमांकन हटाए जाने के लिए कुछ समय की जरूरत है ताकि यह समझा जा सके कि इसके अलावा इस क्षेत्र की क्या जरूरतें हैं। हालांकि उन्होंने कहा कि फिलहाल इस मसले पर वह कोई आश्वासन देने की स्थिति में नहीं हैं लेकिन इस विषय पर काम होगा।

GST बैठक से पहले वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का बड़ा ऐलान, टैक्स में दी राहत

यूएस इंडिया स्ट्रेटेजिक एंड पार्टनरशिप फोरम के सहयोग से फेडरेशन ऑफ इंडियन चैम्बर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री द्वारा आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने फिर दोहराया कि सरकार निवेशकों के अनुरूप माहौल बनाने के सारे प्रयास कर रही है। वित्तमंत्री निर्मला ने कहा कि भारत तेजी से उभरती आर्थिक शक्तियों में है। देश के पास श्रेष्ठ एवं निपुण मानवशक्ति है। सरकार लगातार आर्थिक सुधारों के जरिये अनुकूल माहौल तैयार करने में जुटी है।

अगले दस दिन होने जा रहा कुछ खास

आर्थिक मंदी के सवाल पर उन्होंने कहा कि अगले दस दिनों के भीतर हम आर्थिक मंदी से प्रभावित होने वाले सेक्टर को मजबूती देने के लिए कदम उठाएंगे। उन्होंने कहा कि इसके लिए हम अगले बजट का इंतजार नहीं कर सकते।

2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्य: निर्मला सीतारमण

कुल मिलाकर खपत को बढ़ावा देने के लिए, सरकार ने बहुत स्पष्ट रूप से कहा है कि बुनियादी ढांचे के लिए सार्वजनिक व्यय स्पष्ट रूप से फ्रंट-लोडेड होगा।

सीतारमण ने कहा। "इसी तरह, लोगों के हाथों में पैसा बढ़ाने के लिए, ताकि खपत में सुधार हो सके, मैंने सभी बैंकों से अनुरोध किया है कि वे अपने सहयोगियों, गैर-बैंकिंग, वित्तीय कंपनियों के साथ मिलकर गाँवों तक पहुँचें, जिलों तक पहुँचें और विस्तार करें। सीतारमण ने कहा कि यह तब तक एक सतत प्रणाली है, जब तक अर्थव्यवस्था वास्तव में पर्याप्त उभार नहीं दिखाती है।

आर्थिक सुधार के लिए कदम उठाए जा रहे हैं: निर्मला सीतारमण

जम्मू कश्मीर में निवेश आकर्षित करने की योजना की विस्तृत जानकारी जल्द दी जाएगी। लेकिन इस से पहले सरकार हर तरह से आश्वस्त हो जाना चाहती है। उन्होंने कहा कि कि सरकार धीरे धीरे प्रतिबंधों को हटा रही है जो कि पांच अगस्त के बाद लगाए गए थे। जब राज्य को दो केंद्रशासित प्रदेशों जम्मू व कश्मीर-लद्दाख में बांटा गया था। हाल ही में पर्यटकों के आने पर लगा प्रतिबंध हटा लिया गया है। पोस्ट पेड मोबाइल सेवा पर से भी प्रतिबंध हटाया जा चुका है।

राम केवी

राम केवी

Next Story