कर्मचारियों की बल्ले-बल्ले: अब सबके खाते में इस दिन आएगी सैलरी

BSNL का वेतन पर प्रति माह खर्च 850 करोड़ रुपये खर्च होता है। कंपनी प्रति महीने 1,600 करोड़ रुपये का राजस्‍व अर्जित करती है, हालांकि वेतन को कवर करने के लिए यह राशि पर्याप्‍त नहीं है क्‍योंकि इसका एक बड़ा हिस्‍सा परिचालन आदि में खर्च हो जाता है।

कर्मचारियों की बल्ले-बल्ले: अब सबके खाते में इस दिन आएगी सैलरी

कर्मचारियों की बल्ले-बल्ले: अब सबके खाते में इस दिन आएगी सैलरी

नई दिल्ली: सरकारी टेलिकॉम कंपनी भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) के कर्मचारियों के लिए एक खुशखबरी है। अब सभी कर्मचारियों को दिवाली से पहले यानि 23 अक्टूबर तक सैलरी मिल जाएगी। बता दें, इसके चलते अब भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) की यूनियन ने ने हड़ताल के फैसले को टाल दिया है।

यह भी पढ़ें: मोदी-शाह यहां करेंगे रैलियां: आज महाराष्ट्र-हरियाणा में चुनाव प्रचार का आखिरी दिन

दरअसल इस सरकारी कंपनी के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक पीके पुरवर, निदेशक HR अ​रविंद वडनेरकर और अन्य से ऑल यूनियन एंड एसोसिएशन ऑफ बीएसएनएल (AUAB) ने कल यानि 18 अक्टूबर को मुलाकात की और बताया कि अब सभी कंरचरियों को 23 अक्टूबर तक सैलरी मिल जाएगी।

यह भी पढ़ें: 62 लोगों की मौत! नमाज के दौरान मस्जिद में हुआ बड़ा बम धमाका

गौरतलब है कि सर्विसेज के माध्यम से हर महीने BSNL को 1,600 करोड़ की कमाई होती है। तो वहीं सैलरी पर 850 करोड़ रुपये खर्च होता है, लेकिन कंपनी का ऑपरेशनल खर्च बहुत अधिक है। सरकारी टेलीकॉम कंपनी BSNL को वित्‍त वर्ष 2019 में 13,804 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ था। रिपोर्ट के मुताबिक पुरवर का कहना है कि 4जी स्‍पेक्‍ट्रम का मिलना और वोलंटरी रिटायरमेंट स्‍कीम (VRS) से कर्मचारियों की संख्‍या में कमी से आर्थिक चिंताएं थोड़ी कम होंगी।

ये वजह है बड़ी चिंता

BSNL का वेतन पर प्रति माह खर्च 850 करोड़ रुपये खर्च होता है। कंपनी प्रति महीने 1,600 करोड़ रुपये का राजस्‍व अर्जित करती है, हालांकि वेतन को कवर करने के लिए यह राशि पर्याप्‍त नहीं है क्‍योंकि इसका एक बड़ा हिस्‍सा परिचालन आदि में खर्च हो जाता है।