Top

बैंक में हड़ताल- सरकारी कर्मचारियों का बड़ा ऐलान, लगातार 4 दिन ठप रहेगा काम

निजीकरण के विरोध में सरकारी बैंकों के कर्मचारियों के संगठनों ने 15 और 16 मार्च को हड़ताल करने का ऐलान कर दिया है। जानकारी के लिए बता दें कि 13 मार्च को महीना का दूसरा शनिवार और 14 मार्च को रविवार होने के कारण बैंक बंद रहेगा।

Chitra Singh

Chitra SinghBy Chitra Singh

Published on 10 Feb 2021 6:50 AM GMT

बैंक में हड़ताल- सरकारी कर्मचारियों का बड़ा ऐलान, लगातार 4 दिन ठप रहेगा काम
X
बैंक में हड़ताल- सरकारी कर्मचारियों का बड़ा ऐलान, लगातार 4 दिन ठप रहेगा काम
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने केन्द्रीय बजट में दो सरकारी बैंको के निजीकरण करने घोषणा की थी। इसी निजीकरण को लेकर सरकारी बैंकों के कर्मचारियों काफी रोष देखने को मिल रहा है। इसी रोष के चलते सरकारी बैंक कर्मचारियों 2 दिन की हड़ताल करने का ऐलान कर दिया है। बताया जा रहा है कि इस हड़ताल के कारण बैंक लगातार 4 दिनों तक बंद रहेगा।

दो दिन का हड़ताल

निजीकरण के विरोध में सरकारी बैंकों के कर्मचारियों के संगठनों ने 15 और 16 मार्च को हड़ताल करने का ऐलान कर दिया है। जानकारी के लिए बता दें कि 13 मार्च को महीना का दूसरा शनिवार और 14 मार्च को रविवार होने के कारण बैंक बंद रहेगा।

यह भी पढ़ें... लाल किला हिंसा में ताड़बतोड़ गिरफ्तारी, एक और आरोपी आया पुलिस के हाथ

निजीकरण से डरे कर्मचारी

बता दें कि सरकार द्वारा ऐलान किए गए निजीकरण को लेकर सरकारी कर्मचारियों के बीत भय का माहौल बना हुआ है। इस निजीकरण के चंगुल में कोई भी बैंक आ सकता है। वहीं वजह है कि नौ बैंक यूनियन के केंद्रीय संगठन यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन्स ने हड़ताल करने का फैसला किया है। इस ऐलान के बाद बैंक कर्मियों के बीच नाराजगी साफ देखने को मिल रही है।

Bank strike

4 सालों में 14 बैंकों का विलय

बता दें कि साल 2019 में सरकार ने आईडीबीआई (IDBI) बैंक को निजीकरण कर दिया था। इस तरह सरकार ने पिछले 4 सालों में करीब 14 सरकारी बैंकों का विलय कर चुकी है। वहीं इस बार के बजट में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने दो और बैंकों के निजीकरण का ऐलान कर चुकी है। साथ ही एक सामान्य बीमा कंपनी के निजीकरण करने का ऐलान कर चुकी है। इसके अलावा बजट में एक बैड बैंक की स्थापना, बीमा सेक्टर में एफडीआई की सीमा बढ़ाकर 74 फीसदी करने का भी प्रस्ताव रखा है।

यह भी पढ़ें... मोदी और आजाद की भावुकता के सियासी मायने, दोनों के आंसुओं से शुरू कयासबाजी

दोस्तों देश दुनिया की और को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Chitra Singh

Chitra Singh

Next Story